date_range 04 Apr, 2020

हथनीकुंड बैराज बुझाएगा राजस्थान की प्यास हरियाणा, दिल्ली व उप्र में पानी प


हथनीकुंड बैराज बुझाएगा राजस्थान की प्यास

हरियाणा, दिल्ली व उप्र में पानी पहुंच रहा

चार महीने होगी पानी की सप्लाई


चंडीगढ़। हथनीकुंड बैराज का पानी अब राजस्थान की प्यास बुझाएगा। वर्ष-1996 में पांच राज्यों के बीच हुए जल समझौते पर राजस्थान के सिंचाई विभाग ने काम करना शुरू कर दिया है। वहां के उच्चाधिकारियों ने हथनीकुंड बैराज का दौरा किया। यहां से पाइप लाइन के जरिए राजस्थान में पानी पहुंचाने की योजना है। 

हरियाणा व राजस्थान की सीमा डैम बनाकर सप्लाई किया जाएगा। समझौते के मुताबिक राजस्थान को यहां से 15 जून से 15 सितंबर तक ही पानी दिया जाएगा, क्योंकि बाकि दिनों में बैराज पर पानी सामान्य से कम रहता है। हथनीकुंड बैराज से फिलहाल हरियाणा, दिल्ली व उप्र में पानी पहुंच रहा है। यमुना नदी व पश्चिमी यमुना नहर के माध्यम से हरियाणा से होते हुए दिल्ली पानी पहुंचता है,जबकि उप्र में पूर्वी यमुना नहर के जरिए पानी पहुंच रहा है। पूर्वी यमुना नहर की क्षमता 50 हजार क्यूसेक है। 

पश्चिमी यमुना नहर के माध्यम से दिल्ली व उत्तरी हरियाणा में पहुंच रहे पानी से न केवल सिंचाई होती है बल्कि पीने के भी काम आता है। वर्ष-1996 में हरियाणा, उप्र, हिमाचल, दिल्ली व राजस्थान के मुख्यमंत्री पहुंचे थे। इस दौरान सभी राज्यों में पहुंचने वाले पानी के बंटवारे बारे समझौता हुआ। राजस्थान के हिस्से 1970 क्यूसेक पानी आएगा। यह पानी केवल मानसून सीजन में दिया जाएगा। योजना है कि हथनीकुंड बैराज से पाइप लाइन के जरिए पानी पहुंचाया जाएगा। हालांकि यह प्रोजेक्ट इतना सरल नहीं है। इसको सिरे चढ़ाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ेगी। यही वजह रही कि अब तक इस योजना पर काम शुरू नहीं हो पाया है।

बैराज व आसपास के एरिया का निरीक्षण किया

राजस्थान से आई टीम ने हथनीकुंड बैराज व आसपास का दौरा किया। राजस्थान सिंचाई विभाग के एसई व एक्सईएन हरियाणा के अधिकारियों के साथ रूट प्लान पर भी चर्चा की। हालांकि अभी रूट प्लान तय नहीं हुआ है। सिंचाई विभाग के एसडीओ धर्मपाल का कहना है कि राजस्थान सिंचाई विभाग की टीम आई थी। हथनीकुंड बैराज से राजस्थान में पानी पहुंचाने की योजना है। हालांकि यह जल समझौता वर्ष-1996 में हुआ था, लेकिन अभी तक काम शुरू नहीं हुआ है। अधिकारियों ने बैराज के साथ-साथ आसपास के एरिया का भी दौरा किया।

Write your comment

add