date_range 21 Apr, 2019

साल में खाना चाहिए 7 किलो तेल, खा रहे हैं 18 किलो


बदलती खान-पान की आदतों के कारण देश में लगातार खाद्य तेलों का इस्तेमाल बढ़ रहा है। देश में एक व्यक्ति अभी औसतन 17.5-18 किलो तेल प्रतिवर्ष खा रहा है, जबकि विशेषज्ञों के अनुसार 40 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को अधिकतम 7 किलो तेल का इस्तेमाल ही एक साल में करना चाहिए। वहीं स्वास्थ्य के प्रति सचेत लोगों ने नए तरह के ऑइल (जैसे ऑलिव, अवोकाडो) का इस्तेमाल भी बढ़ा दिया है। वे तेल का इस्तेमाल बदल-बदलकर कर रहे हैं। देश में राइस ब्रान का उपयोग प्रतिवर्ष करीब 50 हजार टन बढ़ रहा है, जबकि उच्च आय वर्ग खाने में ऑलिव ऑइल को तरजीह दे रहा है।

भारत में पिछले 8 साल के दौरान सनफ्लॉवर तेल का उपयोग करीब ढाई गुना बढ़ गया है, जबकि मूंगफली (पीनट) के तेल का इस्तेमाल कम हुआ है। वहीं दूसरी ओर, करीब 23 वर्ष बाद भी वनस्पति घी की मात्रा लगभग स्थिर है, यह 10 लाख टन के आसपास बनी हुई है। वनस्पति घी का 80 फीसदी तक व्यावसायिक उपयोग हो रहा है। द सॉल्वेंट एक्सट्रेक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एसईए) के अनुसार देश में वर्तमान में करीब 17.5 से 18 किलो तेल का उपयोग औसतन एक व्यक्ति द्वारा हो रहा है। 2017-18 में 16.5 किलो तेल औसतन प्रति व्यक्ति की खपत का अनुमान था। इसमें घरेलू उपभोग के तेल के अतिरिक्त होटल-रेस्त्रां और कमर्शियल यूज़ भी शामिल है।

सेहत के लिए अच्छा होता है तेल बदल-बदल कर खाना

न्यूट्रीशियन दीप्ति रावत बताती हैं कि स्वास्थ्य के लिए नेचुरल ऑइल का प्रयोग ही सही है। ऑलिव ऑइल का इस्तेमाल करते समय ध्यान देना चाहिए कि यह डीप फ्राइ के लिए नहीं है। इसमें स्मोकिंग पॉइंट कम होता है, इसका उपयोग सलाद आदि में अधिक फायदेमंद है। रावत कहती हैं कि एक टी स्पून (पांच एमएल) घी और अधिकतम 15 से 20 एमएल तेल का उपयोग चालीस वर्ष से अधिक की उम्र के व्यक्ति को करना चाहिए जबकि इससे कम उम्र के लोगों को अधिकतम 20 से 25 एमएल तेल प्रतिदिन का प्रयोग करना चाहिए। तेल का उपयोग करते समय ध्यान रखना चाहिए कि इसे बदल-बदलकर खाना चाहिए। इस तरह औसतन एक व्यक्ति को एक वर्ष में करीब सात किलो तेल का उपयोग आदर्श स्थिति में करना चाहिए।


Write your comment

add