संजय राउत के खिलाफ केस दर्ज, सीएम शिंदे के बेटे पर हमले की साजिश का आरोप

अपने बयानों के वजह से हमेशा चर्चा में बने रहने वाले उद्धव ठाकरे के करीबी और राज्यसभा सांसद संजय राउत के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है. संजय राउत पर बड़ा आरोप लगाया गया है.

  • 341
  • 0

अपने बयानों के वजह से हमेशा चर्चा में बने रहने वाले उद्धव ठाकरे के करीबी और राज्यसभा सांसद संजय राउत के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है. संजय राउत पर बड़ा आरोप लगाया गया है. दावा किया गया है कि संजय राउत ने मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के बेटे पर श्रीकांत शिंदे पर आरोप लगाया था कि वे उनपर हमला करने का षड्यंत्र रच रहे हैं. वहीं शिंदे ने इस आरोप को बेबुनियाद बताया था.

इन धारा के तहत केस दर्ज

इसके बाद ठाणे की पूर्व महापौर और शिंदे की समर्थक मीनाक्षी शिंदे ने संजय राउत के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है. यह एफआईआर ठाणे के कापुरबावडी पुलिस स्टेशन में दर्ज कराई गई है. कापुरबावड़ी पुंलिस ने IPC की धारा 211,153(A),501,504,505(2) के तहत केस दर्ज किया है.

संजय राउत समाज में वैमनस्य और कटुता फैला रहे: मिनाक्षी

मिनाक्षी ने पुलिस कमिश्नर को चिट्ठी लिखकर कहा था कि मीडिया में बयान बाजी करके राज्यसभा सांसद रहते हुए संजय राउत समाज में वैमनस्य और कटुता फैला रहे हैं. इससे शांति व्यवस्था भंग हो सकती है. राउत ने अपमानित करने वाले शब्दों का भी इस्तेमाल किया इसलिए FIR दर्ज कराई गई है. 

दरअसल संजय राउत के बयान के बाद तहकीकात शुरू हुई और इस सिलसिले में ठाणे क्राइम ब्रांच की टीम ने सामना के विद्याधर चिंदरकर को तलब किया. वे सामना में सहायक संपादक हैं. उन्होंने अपने बयान में बताया कि  21 फरवरी की सुबह साढ़े बजे संजय राउत दफ्तर आए थे और मैं रोजाना कि तरह दफ्तर के कामों के लिए उनसे मिलकर चर्चा करने के लिए गया.  मुझे पता चला की  संजय राउत नासिक जाने वाले हैं तो मैंने उनसे कहा कि आजकल नेताओं पर स्याही  फेंकने जैसी बहुत सी घटनाएं घट रही हैं इसलिए आप अपना ख्याल रखें.

चिंदरकर ने कहा-मुम्बई, पुणे व महाराष्ट्र के विविध इलाकों में स्याही फेंकने, धक्कामुक्की करने या गाड़ी रोक कर पत्थर फेंकने की पूर्व में घटनाएं हुई हैं. इस तरह की खबरें हमने कवर भी की हैं और अन्य अखबारों में भी आती हैं. ऐसा अक्सर होता है। इसीलिए मैंने सांसद संजय राउत को सिर्फ अपना ध्यान रखने के लिए कहा था.

पार्टी के नाम और निशान पर बोले शिंदे 

महाराष्ट्र के CM एकनाथ शिंदे ने मीडिया से बातचीत में बताया कि विपक्ष ने सुप्रीम कोर्ट से चुनाव आयोग के फैसला पर स्थगन की मांग की थी लेकिन SC ने उनकी मांग को अस्वीकार कर दिया है और चुनाव आयोग के फैसले को कायम रखा है. इस मामले में आगे और सुनवाई होगी और निर्णय होगा. फिलहाल कोर्ट ने उनकी याचिका को रद्द कर दिया है. 

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT