आने वाले महीने में भारत की ये बड़ी कंपनियां निकालेंगी नौकरियां, इन पोस्टों पर होगी भर्ती

टाटा ग्रुप के लिए हायरिंग एक्टिविटी बढ़ने की संभावना है क्योंकि उसने हाल ही में सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के निर्माण के लिए बोली हासिल की है।

  • 1270
  • 0

देश में उच्च आर्थिक गतिविधि के मद्देनजर मांग बढ़ने पर भारत में नौकरियों के लिए गतिविधि में जल्द ही वृद्धि होने की संभावना है। बड़ी फर्मों में भर्ती में बढोत्तरी होने वाली है।  भारत में 16 जनवरी से कोविड-19 के खिलाफ सामूहिक टीकाकरण का पहला चरण शुरू हो चुका है।


मिली जानकारी के मुताबिक टाटा समूह, रिलायंस जैसी शीर्ष कंपनियां और अन्य कंपनियों का एक समूह आने वाले महीनों में नौकरियों पर भर्ती की गतिविधियों को बढ़ाने की योजना बना रहा है। हालांकि, रिपोर्ट में कहा गया है कि इनमें से अधिकांश हायरिंग में जूनियर या एंट्री-लेवल जॉब होने की संभावना है।


टाटा कंसल्टेंसी ग्रुप ने दिसंबर तिमाही में 15,000 से अधिक लोगों को काम पर रखा है और रिलायंस और आईटीसी जैसी अन्य कंपनियां भी पीछे नहीं हैं। टीसीएस के मुख्य वित्तीय अधिकारी वी. रामकृष्णन ने बताया कि वित्त वर्ष 2015 की तीसरी तिमाही में भर्ती एक तिमाही में सबसे अधिक थी।


टाटा ग्रुप के लिए हायरिंग एक्टिविटी बढ़ने की संभावना है क्योंकि उसने हाल ही में सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के निर्माण के लिए बोली हासिल की है। इस बीच, इन्फोसिस के इस साल कैंपस से ज्यादा फ्रेशर्स आने की उम्मीद है।


मुकेश अंबानी की रिलायंस ने रिलायंस रिटेल और जियो में काम करने के लिए भी ज्यादा लोगों को काम पर रखना शुरू कर दिया है क्योंकि भारत की प्रौद्योगिकी और खुदरा अंतरिक्ष में भी अपनी जगह बनाने की योजना बना रही है।


 तीसरी तिमाही में आये पॉजिटिव नतीजों के बाद आईटी, ऑटो और रिटेल जैसे कई क्षेत्रों में हायर हायरिंग गतिविधि देखी जा सकती है। हालांकि शीर्ष कंपनियों को अधिक कनिष्ठ और प्रवेश स्तर की नौकरियों को रखने की संभावना है, स्थिति में सुधार होने से पहले मध्य-वरिष्ठ और वरिष्ठ-स्तर की बढ़ोतरी में वृद्धि नहीं हो सकती है।


लेकिन छोटी और मध्यम आकार की कंपनियों के लिए, काम पर रखने का दृष्टिकोण अभी भी धुंधला बना हुआ है क्योंकि वे अभी भी आर्थिक स्थिति से निपटने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT