अमरावती हत्याकांड में बड़ा खुलासा, व्हाट्सऐप मैसेज हत्या की वजह

राजस्थान के उदयपुर में दर्जी की निर्मम हत्या के बाद महाराष्ट्र के अमरावती के उमेश कोल्हे हत्याकांड ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है.

  • 552
  • 0

राजस्थान के उदयपुर में 28 जून को दर्जी कन्हैया लाल की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी. इसी बीच एक मामला महाराष्ट्र के अमरावती से भी सामने आया है, जो उदयपुर हत्याकांड से एक सप्ताह पहले का है. 54 वर्षीय केमिस्ट उमेश प्रहलादराव कोल्हे की 21 जून को हत्या कर दी गई थी. मामले की जांच कर रही टीम का मानना ​​है कि कोल्हे को नूपुर शर्मा का कथित रूप से समर्थन करने वाले सोशल मीडिया पोस्ट के बदले में मारा गया था.

कोल्हे ने शिकायत की थी

इस मामले में मृतक उमेश कोल्हे के पुत्र संकेत कोल्हे ने शिकायत की थी. संकेत ने पुलिस को अपनी शिकायत में बताया कि वे प्रभात चौक से जा रहे थे और उनकी बाइक जैसे ही महिला कॉलेज न्यू हाई स्कूल के गेट पर पहुंची, दो लोगों ने पिता की कार को रोका और उनकी गर्दन पर चाकू मार दिया. जब तक वे वहां पहुंचे तब तक हमलावर भाग चुके थे. स्थानीय लोगों की मदद से वह अपने पिता को अस्पताल ले गया, जहां उसने दम तोड़ दिया.

इस मामले में अमरावती शहर पुलिस के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, पांच आरोपियों ने पूछताछ में बताया है कि उन्होंने एक अन्य आरोपी से मदद मांगी थी, जिसने उन्हें एक कार और दस हजार रुपये की मदद दी. अधिकारी के अनुसार फरार आरोपियों द्वारा आरोपियों को टोही, निगरानी और अपराध को अंजाम देने जैसे विभिन्न कार्य सौंपे गए थे.


RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT