Death Anniversary: हरिवंश राय बच्चन नशे से आजीवन दूर रहकर भी मधुशाला पर झूमते रहे

शब्द साधक डॉ. हरिवंश राय बच्चन, जो अपनी क्लासिक कृति मधुशाला के माध्यम से बिना पिए खुशियाँ लाए, जीवन भर नशे से दूर रहे. उनकी कृति मधुशाला उनके उल्लेख का पर्याय मानी जाती है.

  • 1021
  • 0

जन्म: 27 नवंबर 1907 मृत्यु: 18 जनवरी 2003

शब्द साधक डॉ. हरिवंश राय बच्चन, जो अपनी क्लासिक कृति मधुशाला के माध्यम से बिना पिए खुशियाँ लाए, जीवन भर नशे से दूर रहे. उनकी कृति मधुशाला उनके उल्लेख का पर्याय मानी जाती है.

27 नवंबर 1907 को प्रतापगढ़ के बाबूपट्टी गांव में जन्म

इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय में हिंदी विभाग के सहायक प्रोफेसर डॉ. संतोष कुमार सिंह का कहना है कि हरिवंश राय का जिक्र शुरू होते ही सारी चर्चा उनकी कविता की ओर हो जाती है. एक व्यक्ति के रूप में, उसके भीतर का व्यक्ति चर्चाओं की भीड़ में खो जाता है. उनका जन्म 27 नवंबर 1907 को प्रतापगढ़ जिले के बाबूपट्टी गांव में हुआ था. पिता प्रताप नारायण श्रीवास्तव कायस्थ और माता का नाम सरस्वती था. वह बाद में सही मायने में सरस्वती के पुत्र साबित हुए. उनका तीन भाषाओं पर अधिकार था. वे हिन्दी के प्रबल प्रतीक थे और अंग्रेजी में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए विलायत भी गए. ब्रिटेन में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में, उन्होंने अंग्रेजी कवि येट्स की कविताओं पर शोध किया और हरिवंश से डॉ हरिवंश बन गए. उस समय उर्दू मूल भाषा थी, इस मायने में वे इसमें माहिर भी थे. हरिवंश राय 1941 से 1952 तक इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अंग्रेजी पढ़ाते थे. 1955 में कैम्ब्रिज से लौटने के बाद, उन्हें भारत सरकार के विदेश मंत्रालय में एक हिंदी विशेषज्ञ के रूप में नियुक्त किया गया था. 1966 में, उन्हें राज्यसभा के सदस्य के रूप में नामित किया गया था. बच्चन को 1968 में "दो चट्टानें" के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला. साहित्य में उनके योगदान के लिए उन्हें प्रसिद्ध सरस्वती सम्मान, उत्तर प्रदेश सरकार के यश भारती सम्मान, सोवियत भूमि नेहरू पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था. बच्चन को 1976 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था. उनका निधन 18 जनवरी 2003 को मुंबई में हुआ था.

श्रीवास्तव से बदले बच्चन

डॉ. संतोष बताते हैं कि उनका उपनाम श्रीवास्तव था. बाबूपट्टी गांव के माहौल में जहां उन्हें होश आया, वहां बच्चों को ठेठ देसी अंदाज में बच्चन कहा जाता है. यह शब्द उनके साथ एक ऐसे टैग के रूप में जुड़ गया कि यह बच्चा उम्र और प्रतिभा में बढ़ता गया लेकिन यह वह टैग था जिसने उपनाम की जगह ले ली. हरिवंश राय ने दो शादियां की थीं. पहली पत्नी श्यामा का टीबी के कारण निधन हो गया. पांच साल बाद, उन्होंने मंच अभिनेत्री और गायिका तेजी को अपने जीवन साथी के रूप में चुना.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT