प्राण प्रतिष्ठा के बाद राममय हुआ गोरखपुर का जेल, बंदी कर रहे हैं भजन कीर्तन

आज हम आपको गोरखपुर से आने वाली बड़ी खबर के बारे में बता रहे हैं जहां पर गोरखपुर जेल में संगीन अपराधों जैसे रेप, लूट और कई अन्य अपराधों के मामले में बंद हुए कैदी अपराध छोड़कर भजन कीर्तन करते हुए नजर आ रहे हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर
  • 109
  • 0

एक अपराधी लूटपाट चोरी हत्या करता है लेकिन अगर इनसे उम्मीद की जाए की सब कुछ छोड़कर एक अच्छा इंसान बनें तो शायद ऐसा मुश्किल होता है लेकिन आज हम आपको गोरखपुर से आने वाली बड़ी खबर के बारे में बता रहे हैं जहां पर गोरखपुर जेल में संगीन अपराधों जैसे रेप, लूट और कई अन्य मामले में बंद हुए कैदी अपराध छोड़कर भजन कीर्तन करते हुए नजर आ रहे हैं। हालांकि यह नजारा काफी हैरान करने वाला है यह बंदी अपनी गलतियों पर पछताते हैं लेकिन उनके मामले न्यायालय में विचाराधीन होने और अपराध की संगीन धाराओं को देखते हुए उन्हें जेल में ही जीवन गुजारना पड़ता है।

भगवत गीता की डिमांड

जेल में बंद होने वाले कैदी खुली हवा में सांस नहीं ले पाते हैं बाहर की खूबसूरती को नहीं देख पाते हैं यही वजह है कि उन्हें अपने किए गए कामों पर पछतावा होने के साथ प्रभु के चरणों में ही आनंद मिलने लगा है। आपको बता दें कि, इन कैदियों का मानना है कि भगवत गीता पढ़ने से विपरीत परिस्थितियों में मन को शांति और कामवासना, क्रोध, लालच, मोह माया बंधनों से व्यक्ति को मुक्ति दिलाते हैं, यही कारण है कि इस समय गोरखपुर जेल में अधिकतर बंदी भगवत गीता की डिमांड कर रहे हैं।

जेल में भगवत गीता पढ़ रहे हैं बंदी

जेल में जितने भी कैदी बंद है सभी भगवत गीता पढ़कर अपने अपराधों का प्रायश्चित कर रहे हैं और अच्छे रास्ते पर चलने का वचन भी ले रहे हैं। इसके अलावा गोरखपुर जेल के अधीक्षक दिलीप कुमार पांडे ने भी यह कहा है कि, इस वक्त गोरखपुर जेल में कुल 1967 बंदी बंद किए गए हैं जिसमें से करीब 450 बंदी सजा भोग चुके हैं इसके अलावा जो बंदी बचे हुए हैं इनसे मिलने कोई नहीं आता है वह भगवत गीता पढ़कर अपना मानसिक तनाव कम करते हैं। गोरखपुर के इस जेल में हत्या, लूट, चोरी और डकैती, रेप जैसे मामलों को लेकर बदमाश बंद किए गए हैं। जेल अधीक्षक ने यह भी बताया है कि, ऐसे बंदी है जिन्हें रात में बुरे सपने भी आते हैं, वह इस वजह से अच्छी नींद नहीं ले पाते जेल में काफी समय से बंद रहने की वजह से उनके अंदर तनाव बढ़ चुका है।

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT