ऑस्ट्रेलियाई टीम की क्या बोलती बंद करेंगे अजिंक्य रहाणे? ले रहे हैं विराट कोहली की जगह

विराट कोहली एक टेस्ट मैच खेलने के बाद वापस भारत लौट आएंगे। उनकी जगह कैसे अजिंक्य रहाणे टीम को संभालेंगे जानिए यहां।

  • 1898
  • 0

वनडे सीरीज में जो हार मिली है उसका बदला भारत ने ऑस्ट्रेलिया से टी20 सीरीज जीतकर ले लिया, लेकिन अब दोनों देश के बीच 4 मैचों की टेस्ट सीरीज 17 दिसंबर से शुरु होने वाली है। शुरुआती टेस्ट मैच में तो पहले भारतीय कप्तान विरोट कोहली मैच खेलते हुए दिखाई देंगे, इसके बाद पैटरनिटी लीव पर वो वापस भारत लौट आएंगे। उनकी गैरहाजिरी में अजिंक्य रहाणे तीन मैचों की कप्तान करने वाले हैं।

एक सहायक अभिनेता की छवि से हमेशा गुजर रहे अजिंक्य रहाणे से जब ऑस्ट्रेलियाई मीडिया ने उनकी रणनीति को लेकर सवाल किया तो उसका जवाब देते हुए कहा, 'मैं इस पल में रहने पर विश्वास रखता हूं। विराट फिलहाल हमारे कप्तान है। हम सिर्फ इस टेस्ट के बारे में सोच रहे हैं और उनकी मदद कर रहे हैं। जब वो बाहर चले जाएंगे तो हम अपनी प्लानिंग पर विचार करेंगे।'

मंगलवार को हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में अजिंक्य रहाणे ने कहा कि इस वक्त हमारे पास एक शानदार पेस अटैक है। ऑस्ट्रेलियाई परिस्थितियों में गेंदबाज इशांत शर्मा की कमी जरूर महसूस होगी। लेकिन अभी जो मौजूदा गेंदबाज है वो इन परिस्थियों को अच्छे से समझते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया की जो परिस्थितियां है वो उनके लिए कोई नई नहीं है। 

 विराट कोहली ने जताया अजिंक्य रहाणे पर विश्वास

अपनी गैरहाजिरी में अजिंक्य रहाणे कैसे काम करेंगे इस पर अपनी बात रखते हुए खुद कप्तान विराट कोहली ने कहा,' मुझे इस बात का यकीन है कि अजिंक्य रहाणे काफी अच्छा काम करेगा। मुझे लगता है कि मैं जब घर वापस आऊंगा तब वो अच्छा काम ही करेगा। आपको हम इस बात की जानकारी दें कि इससे पहले भी अजिंक्य रहाणे टेस्ट क्रिकेट में दो बार टीम इंडिया का नेतृत्व कर चुके हैं। पहली बार उन्होंने धर्मशाला में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कप्तान की थी और दूसरी बार बेंगलुरु  में अफगानिस्तान के खिलाफ वो कप्तानी करते हुए नजर आए थे। यहां गौर करने वाली बात ये है कि दोनों बार उन्होंने टीम को जीत हासिल काई थी।

अजिंक्य रहाणे से जुड़ी खास बातें

- 6 जून 1988 को महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में अजिंक्य रहाणे का जन्म हुआ था।

- 7 साल के उम्र में उनके पिता डोमबिविली में मौजूद एक छोटे सी कोचिंग कैंप में उन्हें लेकर गए। 

-17 साल की उम्र में उन्हें पूर्व भारतीय बल्लेबाज प्रवीण आमरे का साथ मिला। इसके बाद उनका हुनर निखरकर सामने आया।

- जब भारतीय अंडर-19 टीम न्यूजीलैंड के दौरे पर थी तब उन्होंने दो शतक जड़कर सभी की तारीफे बंटोरी थी।

- 2008 में मुंबई के लिए जब वो रणजी ट्रॉफी खेलने के लिए उतरे तो दूसरी बार में ही उन्होंने 38वां खिताब जीत लिया।

- 2011 में पहली बार भारतीय वनडे टीम में उन्हें जगह मिली थी।

- वो आईपीएल में एक ही ओवर में छह चौके जड़ने वाले पहले बल्लेबाज बने हैंषट

- लॉर्ड्स मैदान पर पहले टेस्ट मैच में शतक लगाने वाले वो चौथे क्रिकेटर है।

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT