Wardha: हिंदी विश्वविद्यालय की अडियल नीति के खिलाफ छात्रों का प्रदर्शन

महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय वर्धा में कॉलेज प्रशासन की अडियल नीति के विरुद्ध छात्र धरना प्रदर्शन कर रहे हैं.

  • 517
  • 0

महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय वर्धा में कॉलेज प्रशासन की अडियल नीति के विरुद्ध छात्र धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. मिल रही जानकारी के मुताबिक बिट्टू कुमार नाम के एक छात्र ने सत्र 2022-26 के अंतर्गत बीकॉम में दाखिला लिया. विश्वविद्यालय प्रशासन ने बिना छात्र की सहमति के उसके बीकॉम पाठ्यक्रम को बीबीए में समायोजित कर दिया.

छात्र बिट्टू के मुताबिक,पाठ्यक्रम बदलने की जानकारी जब बिट्टू को पता चली तो वह कुलसचिव के पास गया. कुलसचिव ने बताया कि यह निर्णय ऊपर से लिया गया है. इसके बाद बिट्टू विवि के कुलपति से पास गया.बिट्टू ने बताया कि कुलपति ने कहा कि'आप बीबीए पढ़ सकते हैं तो पढ़िए अन्यथा अपनी फीस वापस लेकर अपना प्रवेश निरस्त करवा लिजिए. कुलपति ने कहा हम 4 लाख हर महीने  नहीं खर्च कर सकते. तमाम कोशिशों के बाद हताश व निराश विद्यार्थी बिट्टू कुमार ने कॉलेज  प्रशासन के मनमानी रवैया के खिलाफ प्रशासनिक भवन में प्रदर्शन शुरु कर दिया.

बिट्टू के समर्थन में कॉलेज के अन्य छात्र भी धरने पर बैठे हैं. विद्यार्थियों का आरोप है कि आंदोलन स्थल विवि के प्रशासनिक भवन में घुसकर पुलिस ने छात्रों को डराती और धमकाती है. जब छात्र वीडीयो बनाने लगते हैं तो वो तुरंत वापस लौट जाते हैं. विवि के जनसंपर्क अधिकारी बीएस मिर्गे ने कहा कि  विद्यार्थीयों की समस्या सोमवार तक हल हो जाएगी. प्रदर्शन कर रहे छात्रों का कहना है कि यदि छात्रों पर अंतरिक व बाह्य प्रशासन के द्वारा कोई भी अप्रिय घटना घटती है तो उसका पूर्णतः जिम्मेदार विश्वविद्यालय प्रशासन होगा.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT