बैन के बाद भी क्या खेल सकते हैं पबजी? जानिए क्या है पूरी प्रक्रिया

मोदी सरकार ने एक बार फिर चीन पर डिजिटल स्ट्राइक करते हुए प्रसिद्ध गेमिंग ऐप पबजी समेत 118 मोबाइल ऐप्स को बैन कर दिया है। इससे पहले भी मोदी सरकार ने कई चीनी कंपनियों की ऐप को बैन किया है।

  • 1929
  • 0

चीनी सैनिकों के विवादित माहौल के कारण एलओसी पर तनाव की स्थिति बनी हुई है। जिसकी वजह से भारत और चीन आमने- सामने है क्योंकि चीन लगातार भारतीय सीमा में घुसपैठ कर रहा हैं और भारतीय सैनिकों को गीदड़ धमकी दे रहा है। इसी बीच देश की मोदी सरकार ने एक बार फिर चीन पर डिजिटल स्ट्राइक करते हुए प्रसिद्ध गेमिंग ऐप पबजी समेत 118 मोबाइल ऐप्स को बैन कर दिया है। इससे पहले भी मोदी सरकार ने कई चीनी कंपनियों की ऐप को बैन किया है। ऐसे में अब सवाल उठता है कि क्या पबजी बैन होने के बाद भी बच्चे इसका इस्तेमाल कर सकते है तो चलिए हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देते है। 

पबजी के दो गेमिंग ऐप  हैं

दरअसल पबजी के दो गेमिंग ऐप हैं। पहला पबजी मोबाइल ऐप जबकि दूसरा पबजी डेस्कटॉप  है। लेकिन पबजी मोबाइल ऐप में चीनी कंपनी टेंसेंट का बड़ा प्रभाव था। इसलिए इस गेम में भारतीय डाटा को लेकर बड़ा खतरा बना हुआ था। दूसरे पबजी के डेस्कटॉप गेम को सबसे पहले साउथ कोरियाई की एक कंपनी ने खास कंप्यूटर के लिए बनाया था। मतलब यह एक कंप्यूटर गेम था, साइज की बात करें तो वो करीब 2GB था। गेम को बैन करने के बाद भी भारत में इसे इस्तेमाल किया जा सकेगा। लेकिन  पबजी मोबाइल और पबजी मोबाइल लाइट का प्रयोग नहीं हो पाएगा।  क्योंकि मोबाइल ऐप के इस्तेमाल पर नज़र रखने वाली एजेंसी ऐप एनी के मुताबिक पबजी का प्रयोग  भारत में 50 मिलियन से अधिक लोग करते हैं, जिनमें से लगभग 35 मिलियन लोग सक्रिय भूमिका में इसका प्रयोग करते हैं।

पबजी मोबाइल ऐप चीन कनेक्शन के कारण भारत में  बैन हुआ

दरअसल भारत  सरकार ने अपने चीनी कनेक्शन के कारण पबजी मोबाइल ऐप पर बैन लगा दिया है क्योंकि भारत और चीन के बीच में लगातार सीमा विवाद चल रहा हैं। चीन लद्दाख में भारतीय क्षेत्र पर अपना कब्जा करने की कोशिश कर रहा है वहीं भारत देश में फैले चीनी ऐप के प्रयोग पर बैन लगाकर डिजिटल स्ट्राइक कर रहा है। इससे पहले भी सरकार ने TikTok सहित कई ऐप पर बैन लगा दिया था। 

ऐसी रहेगी प्रकिया

पबजी मोबाइल ऐप का प्रयोग भी वैसा होने जा रहा है जैसा कि TikTok के साथ में हुआ था क्योंकि आने वाले कुछ दिनों में जब Apple और Google को सरकारी अधिसूचना प्राप्त हो जाएगी तो वह लोग पबजी मोबाइल ऐप को अपने ऐप स्टोर से हटा देंगे। जो लोग पहले से ही पबजी मोबाइल ऐप इंस्टॉल कर चुके हैं, उनके फोन पर ऐप जारी रहेगा। लेकिन यह काम नहीं कर पाएगा क्योंकि केन्द्र सरकार से नोटिस मिलने के बाद Jio और Airtel जैसी कई टेलीकॉम कंपनियां भी अपने सर्वर से पबजी मोबाइल ऐप ब्लॉक कर देंगी। कई चीनी ऐप के लिए फिर से भारत सरकार से अनुमति मांगी जा रही है। लेकिन ऐसा होना संभव नहीं है। क्योंकि बैन भारत की सीमा पर चीनी आक्रामकता का परिणाम है और जब तक इसका समाधान नहीं किया जाता है, तब तक भारत में फिर से बैन चीनी ऐप की अनुमति देना संभाव नहीं है।

पबजी गेम  बैन होने पर लोगों की राय

पबजी गेम खेलने वाले राहुल गुप्ता का मानना है कि पबजी भारत में बैन हो गया है।अब हमारा टाइम पास कैसे होगा क्योंकि पबजी गेम खेलने की वजह से हम लोगों को टाइम का पता नहीं चलता था और हम सभी दोस्तों के साथ में आसानी से टाइम पास करते थे। वहीं, पबजी गेम पर बैन को लेकर अभिभावक खुशी जोशी ने खुशी जताई है। उनका कहना है कि यह ऐप बच्‍चों और युवाओं पर नशे की तरह असर करता है। इस लेकर देश में काफी संख्‍या में बच्‍चों ने आत्‍महत्‍या तक कर ली। इसीलिए बैन जरूरी था।

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT