सुल्ली डील्स ऐप का मास्टरमाइंड ओंकारेश्वर ठाकुर इंदौर में गिरफ्तार: दिल्ली पुलिस

"सुली डील्स" ऐप मामले में यह पहली गिरफ्तारी है. ऐप, जिसे पिछले साल लॉन्च किया गया था, ने मुस्लिम महिलाओं को 'नीलामी' के लिए सूचीबद्ध किया था.

  • 613
  • 0

दिल्ली पुलिस ने आज मध्य प्रदेश के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया, जो 'सुली डील्स' एप्लिकेशन का कथित निर्माता है. "सुली डील्स" ऐप मामले में यह पहली गिरफ्तारी है. ऐप, जिसे पिछले साल लॉन्च किया गया था, ने मुस्लिम महिलाओं को 'नीलामी' के लिए सूचीबद्ध किया था, जिनकी तस्वीरों को बिना अनुमति के लिया गया था और उनमें छेड़छाड़ की गई थी.

ये भी पढ़ें:- Maharashtra: 15 फरवरी तक बंद रहेंगे सभी स्कूल-कॉलेज, जारी किए गए दिशा-निर्देश

'सुल्ली डील' और हाल ही में बनाए गए 'बुली बाई' एप्लिकेशन ने कथित तौर पर मुस्लिम महिलाओं की उनकी सहमति के बिना तस्वीरें अपलोड कीं और उनके खिलाफ अनुचित टिप्पणी की गई. दोनों ऐप ने चोरी की गई तस्वीरों को नीलामी करने के लिए होस्टिंग प्लेटफॉर्म 'गिटहब' का इस्तेमाल किया.

ये भी पढ़ें:- Covid-19: केजरीवाल ने किया बड़ा ऐलान, दिल्ली में फिलहाल नहीं लगेगा लॉकडाउन

आरोपी ओंकारेश्वर ठाकुर को मध्य प्रदेश के इंदौर में दिल्ली पुलिस के इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रेटेजिक ऑपरेशंस (IFSO) ने गिरफ्तार किया था. दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल के इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशंस यूनिट के पुलिस उपायुक्त केपीएस मल्होत्रा ​​ने कहा, "ओंकारेश्वर ठाकुर को इंदौर से गिरफ्तार किया गया है. वह सुल्ली डील ऐप मामले का मुख्य मास्टरमाइंड है."

ये भी पढ़ें:- देश में कोरोना के बढ़ते मामलों पर केंद्र हुआ सतर्क, पीएम करेंगे अहम बैठक

26 वर्षीय ठाकुर ने इंदौर में आईपीएस अकादमी से बीसीए किया है और वह न्यूयॉर्क सिटी टाउनशिप के निवासी हैं. पुलिस ने कहा कि ठाकुर ने गिटहब पर 'सुली डील' के लिए कोड विकसित किया और ऐप को ट्विटर पर साझा किया. बीसीए डिग्री धारक ओंकारेश्वर ठाकुर ने खुलासा किया कि इस मामले में और भी लोग शामिल थे. जुलाई 2021 में दिल्ली पुलिस ने सुल्ली डील मामले में प्राथमिकी दर्ज की थी.

ये भी पढ़ें:- PKL: बंगाल वॉरियर्स का सामना पुनेरी पलटन से तो वहीं बेंगलुरु बुल्स और यूपी योद्धा होंगे आमने-सामने

'बुली बाई' मामले की जांच से पता चला है कि नीरज बिश्नोई ट्विटर हैंडल "@sullideals" के निर्माता के संपर्क में थे, जिसका इस्तेमाल गिटहब पर 'सुली डील' ऐप बनाने के लिए किया गया था. दिल्ली के किशनगढ़ पुलिस स्टेशन में दर्ज प्राथमिकी में उनके द्वारा इस्तेमाल किए गए एक ट्विटर अकाउंट की संलिप्तता से उनके दावे की पुष्टि हुई है.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT