जानिए स्किन एलर्जी का प्रकार, कारण और इनका इलाज

त्वचा हमारे शरीर का सबसे बाहरी आवरण है. यह हमारी सुंदरता को भी दर्शाता है. लेकिन कभी-कभी इस खूबसूरती पर "दाग" भी पड़ जाता है. एलर्जी "दाग" लोग अक्सर त्वचा की एलर्जी को हल्के में लेते हैं और एलर्जी के गंभीर होने पर भी डॉक्टर के पास जाए बिना ही घरेलू नुस्खे

  • 639
  • 0

त्वचा हमारे शरीर का सबसे बाहरी आवरण है. यह हमारी सुंदरता को भी दर्शाता है. लेकिन कभी-कभी इस खूबसूरती पर "दाग" भी पड़ जाता है. एलर्जी "दाग" लोग अक्सर त्वचा की एलर्जी को हल्के में लेते हैं और एलर्जी के गंभीर होने पर भी डॉक्टर के पास जाए बिना ही घरेलू नुस्खे आजमाते हैं. इस वजह से कई बार एलर्जी स्थायी घाव दे देती है, जो हमारे व्यक्तित्व में बाधा बन जाती है. त्वचा की एलर्जी को गंभीरता से लेने की जरूरत है. आज हम इसी के बारे में बात करने जा रहे हैं.

त्वचा की एलर्जी क्या है 

स्किन एलर्जी के बारे में तो हम सभी ने सुना होगा, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसके होने का कोई एक कारण नहीं होता है. हमारी त्वचा में एलर्जी कई कारणों से हो सकती है और यह चेहरे के अलावा शरीर के किसी भी हिस्से में समस्या पैदा कर सकती है. स्किन एलर्जी वह स्थिति है जब हमारी त्वचा में जलन या जलन हो जाती है. यह हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया के कारण होता है. प्रतिरक्षा प्रणाली संकेत देती है कि हमारी त्वचा किसी ऐसी चीज के संपर्क में है जो त्वचा के लिए हानिकारक हो सकती है. नतीजतन, हमें त्वचा में खुजली, रैशेज, जलन आदि महसूस होने लगती है और दिखाई देने लगती है. कई बार इसकी वजह से त्वचा पर धब्बे, पित्ती और सूजन भी आ जाती है.

त्वचा एलर्जी के प्रकार

स्किन एलर्जी कई तरह की होती है. इनमें से कुछ बहुत ही सामान्य हैं, जो किसी के लिए भी परेशानी का सबब बन सकते हैं. इनके बारे में जानना हम सभी के लिए जरूरी है.

1. एक्जिमा

2. ग्रेन्युलोमा एनुलारे

3. लाइकेन प्लेनस

4. हाइव्स और एंजियोएडेमा

त्वचा एलर्जी उपचार

एलर्जी को देखने के बाद चिकित्सा उपचार तय किया जाता है. जिन लोगों की त्वचा रूखी होती है उन्हें भी अच्छे मॉइश्चराइजर की जरूरत होती है.

एक्जिमा या पित्ती:

एलर्जी की सीमा के अनुसार दवाएं दी जाती हैं. ज्यादातर त्वचा विशेषज्ञ ऐसी एलर्जी के लिए क्रीम लगाने की सलाह देते हैं. इसे सीधे त्वचा पर लगाया जाता है. इसके साथ ही कुछ ओरल टैबलेट भी दिए जाते हैं, जो एलर्जी में राहत देते हैं.

फंगल संक्रमण:

दाद या अन्य फंगल संक्रमण के लिए एंटिफंगल उपचार किया जाता है. यह शैम्पू और क्रीम लगाने के लिए भी दिया जाता है. संक्रमण गंभीर होने पर कुछ गोलियां दी जाती हैं. उदाहरण के लिए, Terbinafine और Lamisil आमतौर पर उपयोग किए जाते हैं. कीड़े के काटने या डंक मारने की स्थिति में: कभी-कभी इस स्थिति में भी घाव वाली जगह पर एलर्जी हो जाती है. फिर कीट विकर्षक का उपयोग किया जाता है और घाव को ढक कर रखा जाता है.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT