सावधान: खांसी या बुखार नहीं बल्कि कोरोना के नए स्ट्रेन के ये हैं खतरनाक लक्षण

देशभर में कोरोना के नए मामले इस वक्त सामने आ रहे हैं, जानिए पहले के मुकाबले किस प्रकार से अलग है इस बार नए स्ट्रेन के लक्षण.

  • 17179
  • 0

कोरोना का कहर इस वक्त बढ़ता ही जा रहा है. एक लाख से ज्यादा केस हर रोज सामने आ रहे हैं. इस महामारी के लक्षणों में खांसी, बुखार, लॉस ऑफ टेस्ट और स्मैल जैसे लक्षण शामिल हैं. लेकिन नए स्ट्रेन की तबाही के साथ अब नए लक्षण लोगों के बीच देखने को मिल रहे हैं. आइए यहां जानते हैं कि नए स्ट्रेन के लक्षण पहले वाले लक्षणों से कैसे अलग है और इसकी पहचान कैसे होगी.

हल्की आंखें लाल होना- चीन में हाल ही में हुई एक स्टडी की माने तो नए स्ट्रेन पर ध्यान देने के दौरान आपको कुछ खास लक्षण नजर आएंगे. इसमें आंखे हल्की लाल या गुलाबी हो सकती है. आंखों में लालपन होने के साथ-साथ सूजन और पानी आने की शिकायत भी हो सकती है. 

(ये भी पढ़ें: Chaitra Navratri 2021: जानिए क्या है कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त, पूजा करते समय इन बातों का रखें ख्याल)

कानों से जुड़ी समस्या- इंटरनेशल जर्नल ऑफ ऑडियोलॉजी में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक नए स्ट्रेन में कानों से जुड़ी दिक्कत को देखा गया है. 54% लोगों ने ये परेशानी देखी है.

पेट से जुड़ी परेशानी- शोधकर्ताओं ने गैस्ट्रोइंटस्टाइनल से जुड़ी परेशानी होने की बात कही है. पहले मरीज को सिर्फ अपर रेस्पिरेटी सिस्टम की दिक्कत होती थी, लेकिन अब पेट से जुड़ी परेशानी भी आ रही है. कोरोना के नए स्ट्रेन में लोगों ने उल्टी, पेट में एंठन और डायजेस्टिव डिसकम्फर्ट महसूस किया है.

हार्ट बीट- मेयो क्लीनिक की एक रिपोर्ट के मुताबिक नए स्ट्रेन से संक्रमित होने के बाद धड़कन की रफ्तार काफी ज्यादा हो जाती है. JAMA में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक रिकवर हो चुके 78 % लोगों ने कार्डिएक से जुड़ी परेशानी होने की बात कही है.

सिरदर्द- नए स्ट्रेन काफी ज्यादा संक्रामक है. ये फेफड़ों और  श्वसन तंत्र में आसानी से फैलने का काम कर रहा है. इसके चलते निमोनिया तक हो रहा है जो कोरोना को अधिक खतरनाक बनाता है.

पहले वाले लक्षणों में है इतना अंतर- कोरोना के वेरिएंट के लक्षण इससे थोड़े अलग थे. सूखी खांसी, बुखार, सांस में तकलीफ ज्यादा देखने को मिल रही थी. हालांकि मौजूदा हालातों में भी इन लक्षणों को नजरअंदाज करने की भूल नहीं करनी चाहिए.

(ये भी पढ़ें: IPL 2021: ग्लेन मैक्सवेल ने मारा ऐसा छक्का जिसे देख कप्तान कोहली कुछ यूं रह गए दंग)

उंगलियों में सूजन आना - पिछले साल मार्च की बात की जाए तो इटली के कुछ डर्मेटोलॉजिस्ट ने कोरोना मरीजों के पैरों और उंगलियों में सूजन होने की बात कही थी. उन्होंने इस बात का भी दावा किया था कि कोरोना होने के बाद उनकी त्वचा का रंग असामान्य तरीके से बदल रहा था.

बेचैनी होना- अमेरिका के वॉशिंगटन नर्सिंग होम की एक रिपोर्ट के माने तो लगभग एक-तिहाई लोग कोरोना संक्रमित पाए गए. कुछ मरीजों में सिर्फ बैचेनी और मांसपेशियों में दर्द जैसे असामान्य लक्षण देखने को मिले थे.


RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT