चीन के साथ सीमा विवाद के बीच तैयारियों की समीक्षा के लिए सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने लद्दाख का दौरा किया

चीन के साथ जारी सीमा विवाद के बीच सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे शुक्रवार को मौजूदा सुरक्षा स्थिति और परिचालन तैयारियों की समीक्षा करने के लिए लद्दाख पहुंचे.

  • 661
  • 0

सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे परिचालन तैयारियों का आकलन करने के लिए लद्दाख की दो दिवसीय यात्रा पर हैं क्योंकि पिछले साल मई में शुरू हुए तनाव का कोई अंतिम समाधान नहीं होने के कारण क्षेत्र में चीन के साथ सैन्य संघर्ष जारी है. सेना ने एक बयान में कहा, जनरल एमएम नरवणे मौजूदा सुरक्षा स्थिति और परिचालन तैयारियों की समीक्षा करेंगे और लद्दाख में कठोर मौसम की स्थिति में तैनात सैनिकों के साथ भी बातचीत करेंगे. यात्रा से एक दिन पहले, जनरल एमएम नरवने ने कहा कि भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच आमने-सामने की घटनाएं तब तक होंगी जब तक दोनों देशों के बीच सीमा समझौता नहीं हो जाता.


चीन पर चर्चा करते हुए, जनरल एमएम नरवने ने कहा, "हमारे पास एक उत्कृष्ट सीमा मुद्दा है. हम फिर से किसी भी दुस्साहस का सामना करने के लिए तैयार हैं जो कि हो सकता है जैसा कि हमने अतीत में प्रदर्शित किया है." "इस तरह की घटनाएं तब तक होती रहेंगी जब तक कि एक दीर्घकालिक समाधान नहीं हो जाता है, और वह है एक सीमा समझौता और यह हमारे प्रयासों का जोर होना चाहिए ताकि हमारे पास उत्तरी (चीन) के साथ स्थायी शांति हो.


फिलहाल गलवान, गोगरा और पैंगोंग त्सो में विघटन हो चुका है. पीपी 15 के आसपास के हॉट स्प्रिंग्स क्षेत्र में अभी भी तनाव बना हुआ है. भारत और चीन के बीच कोर कमांडर स्तर की सैन्य वार्ता के 12 दौर हो चुके हैं, लेकिन दोनों पक्षों द्वारा बढ़ी हुई तैनाती के लिए सैनिकों की वापसी सुनिश्चित करने में कोई सफलता नहीं मिली है. भारत ने जोर देकर कहा है कि देपसांग और डेमचोक को भी चल रहे सैन्य गतिरोध के आलोक में घर्षण क्षेत्रों के रूप में देखा जाता है, लेकिन चीन देपसांग और डेमचोक पर अपने रुख पर अडिग है. यह एक प्रमुख कारण है कि चीन ने पूर्वी लद्दाख में पिछले साल सैन्य गतिरोध के दौरान घर्षण बिंदु के रूप में उभरे क्षेत्रों के अलावा अन्य क्षेत्रों पर भी चर्चा नहीं की है.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT