मेक्सिको में पकड़ा गया मोस्ट वांटेड गैंगस्टर दीपक बॉक्सर, FBI की मदद से मिली कामयाबी

पुलिस का कहना है कि बॉक्सर ने देश छोड़ने के लिए फर्जी पासपोर्ट का इस्तेमाल किया था. उसने 29 जनवरी को कोलकाता से मैक्सिको के लिए उड़ान भरी थी.

  • 330
  • 0

दिल्ली पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. मोस्ट वांटेड गैंगस्टर दीपक बॉक्सर को मेक्सिको में गिरफ्तार कर लिया गया है. अब उसे भारत लाने की योजना बनाई जा रही है. सूत्रों की माने तो एक दिन बाद ही दीपक बॉक्सर को दिल्ली लाया जाएगा. दिल्ली पुलिस की टीम ने संघीय जांच ब्यूरो (FBI) के माध्यम से उसे पकड़ा है. दीपक बॉक्सर गोल्डी बरॉड और लॉरेंन्स बिश्नोई का खास है.  

 गोगी गिरोह की संभाल रहा था कमान  

बता दें कि गैंगस्टर दीपक बॉक्सर दिल्ली के सिविल लाइंस में एक बिल्डर की हत्या सहित कई मामलों में फरार था. उस पर 3 लाख रुपये का इनाम घोषित था. दिल्ली-एनसीआर का टॉप गैंगस्टर रोहिणी कोर्ट में जितेंद्र गोगी की हत्या के बाद गोगी गिरोह की कमान संभाल रहा था. वह कोलकाता से फ्लाइट लेकर 29 जनवरी, 2023 को मेक्सिको भाग गया था. पुलिस लंबे समय से उसे पकड़ने की कोशिश कर रही थी. 

अमित गुप्ता की हत्या की ली थी जिम्मेदारी 

पिछले साल, उसने गिरोह की गतिविधियों के बारे में नियमित अपडेट पोस्ट करने के लिए अपने गुर्गों की तरफ से इस्तेमाल किए जाने वाले इंस्टाग्राम हैंडल की मदद से बिल्डर-होटल व्यवसायी अमित गुप्ता की हत्या की जिम्मेदारी ली थी. एक फेसबुक पोस्ट में बॉक्सर ने दावा किया कि गुप्ता की हत्या उसने की थी और हत्या का मकसद जबरन वसूली नहीं, बल्कि बदला लेना था.

फर्जी पासपोर्ट का किया था इस्तेमाल 

पुलिस का कहना है कि बॉक्सर ने देश छोड़ने के लिए फर्जी पासपोर्ट का इस्तेमाल किया था. उसने 29 जनवरी को कोलकाता से मैक्सिको के लिए उड़ान भरी थी. बता दें कि दिल्ली पुलिस ने दीपक बॉक्सर पर तीन लाख रुपये का इनाम घोषित किया था.

कौन है दीपक बॉक्सर 

दीपक बॉक्सर एक 27 वर्षीय गैंगस्टर है, जो पूर्व सरगना जितेंद्र गोगी के सितंबर 2021 में मारे जाने के बाद गोगी गिरोह का नेतृत्व कर रहा था. उसने 2016 में गोगी को हरियाणा में पुलिस हिरासत से मुक्त कराया था. यह बताया गया कि बिश्नोई चाहता था कि बॉक्सर विदेश से गिरोह के संचालन का प्रबंधन करे. 

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT