इन 6 स्पीलिंग पोजीशन का ऐसा है शरीर पर असर, इसलिए सोने के बाद होता है पीठ में दर्द

डॉक्टरों का कहना है कि हमारी स्पीलिंग पोजीशन बहुत मायने रखती है। ऐसे में जानिए कौन-सी 6 ऐसी स्पीलिंग पोजीशन है जिसका गहरा असर अपनी सेहत पर पड़ता है।

  • 2066
  • 0

हम इस वक्त जिस तरह की जिंदगी जी रहे है उसमें कुछ भी स्थिर नहीं रहता है। कभी भी-कुछ भी हो सकता है। हमारी सेहत पर आए दिन किसी न किसी चीज के चलते परेशानी बनी ही रहती है। लेकिन क्या आपको पता है कि आपका सोना भी आपके लिए एक बड़ी मुसीबत खड़ा कर सकता है।  ऐसा इसलिए 

क्योंकि लोग अपनी स्लीपिंग पोजीशन और नींद की आदतों के बारे में शायद ही परवाह करते हैं। डॉक्टरों का कहना है कि हमारी स्लीपिंग पोजीशन बहुत मायने रखती है। कुछ लोग बिस्तर पर लापरवाही से लेटना पसंद करते हैं, जबकि कई अलग-अलग पोजीशन में सोना पसंद करते हैं। ऐसे में स्लीपिंग पोजीशन हमारे स्वास्थ्य पर कुछ न कुछ प्रभाव डालती है। आइए जानते हैं ये चीज किस तरह से होती है। 

1. पेट के बल सोना

इस स्लीपिंग पोजीशन के लिए खुद डॉक्टर सलाह नहीं देते हैं। जो लोग पीठ दर्द से पीड़ित हैं, उन्हें इस पोजीशन में नहीं सोना चाहिए क्योंकि इससे आपको शांति नहीं मिलेगी।

2. पीठ के बल सोना

पीठ के बल सोने से स्लीप एपनिया और खर्राटे आते हैं और इससे आपकी नींद की गुणवत्ता भी प्रभावित होती है। इससे आपको हाई बल्ड प्रेशर और हृदय संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

3.साइड पर सोना 

यह बेहतरीन एक स्लीपिंग पोजीशन है। यह सभी पोजीशन्स में से एक आरामदायक पोजीशन है। साइड में सोने से गर्दन और पीठ दर्द दोनों से राहत मिलती है। यह पाचन में भी सुधार करने में मदद करती है।

4. फीटल पोजीशन

यह पोजीशन खर्राटों को रोकती है, लेकिन इससे आपको बैकपेन से छुटकारा पाने में मदद नहीं मिलती है क्योंकि इस घुमावदार पोजीशन में दर्द ज्यादा बढ़ जाता है और यह डायाफ्रामिक सांस को प्रतिबंधित करता है।

5. स्पीलिंग ऑन द लेफ्ट साइड

इस पोजीशन में सोने की सलाह सबसे ज्यादा प्रेग्नेंट महिला को दी जाती है। इससे बल्ड सर्कुलेशन बूस्ट होता है और यह पूरे शरीर में पोषक तत्वों की गति को बढ़ता है।

6. स्टार पोजीशन

इससे खर्राटे आते हैं और पीठ में दर्द होता है लेकिन यह एसिड रिफ्लक्स के लिए फायदेमंद होगा।

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT