डेंगू: बच्चों के लिए क्यों है खतरा, जानें इसके लक्षण और बचाव

देश के कई राज्यों में डेंगू का कहर जारी है.ऐसे में सवाल उठता है कि बच्चे सबसे ज्यादा संक्रमित क्यों हो रहे हैं और उन्हें इस संक्रमण से कैसे बचाया जा सकता है.

  • 1756
  • 0

देश के कई राज्यों में डेंगू का कहर जारी है. अकेले उत्तर प्रदेश में पिछले एक महीने में कई मौतें हुई हैं. मरने वालों में ज्यादातर बच्चे हैं. मथुरा और फिरोजाबाद के अलावा कानपुर, प्रयागराज और गाजियाबाद से लगातार डेंगू के मामले सामने आ रहे हैं. ऐसे में सवाल उठता है कि बच्चे सबसे ज्यादा संक्रमित क्यों हो रहे हैं और उन्हें इस संक्रमण से कैसे बचाया जा सकता है.

क्या कहते हैं विशेषज्ञ

जानकारों का कहना है कि डेंगू एक ऐसी बीमारी है जो किसी को भी हो सकती है, लेकिन इस बार बच्चे ज्यादा संक्रमित हो रहे हैं. कारण यह है कि वयस्कों की तुलना में बच्चों की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है. वे साल में छह से आठ बार श्वसन संक्रमण से पीड़ित होते हैं. वही बड़ी संख्या में बच्चे बाहर का दूषित खाना और बाहर गंदा पानी पी रहे हैं. यही वजह है कि उन्हें भी संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा है.

डेंगू बुखार के प्रकार

अचानक तेज बुखार.

सिर में आगे की और तेज दर्द.

आंखों के पीछे दर्द और आंखों के हिलने से दर्द में और तेजी. 

मांसपेशियों (बदन) व जोडों में दर्द. 

स्‍वाद का पता न चलना व भूख न लगना.

छाती और ऊपरी अंगो पर खसरे जैसे दानें

चक्‍कर आना. 

जी घबराना उल्‍टी आना.

डेंगू से बचाव के उपाय :-

स्वच्छता का रखें खास ख्याल 

आपको अपने रहने की जगह और उसके आसपास के क्षेत्रों की पूरी सफाई का ध्यान रखना चाहिए. अपने आस-पास की जगहों को साफ रखकर आप आसानी से मच्छरों को भगा सकते हैं.

पानी को कहीं भी जमा न होने दें:

ठहरे हुए पानी में मच्छर पनप सकते हैं और डेंगू भी फैला सकते हैं. ऐसे बर्तनों में रखे पानी को नियमित रूप से बदलते रहें जो लंबे समय से उपयोग में नहीं हैं. हर हफ्ते बर्तनों में पानी बदलते रहें. 

मच्छर भगाने वाली और जालियों का प्रयोग:

मच्छरों से बचाव के लिए सबसे पहले आप जब भी घर से बाहर जाएं तो मच्छर भगाने वाली दवा का इस्तेमाल करें और सोने से पहले मच्छरदानी को अच्छे से सेट कर लें. 

शुरुआती लक्षणों को न करें नजरअंदाज:

यदि आप यहां बताए गए लक्षणों में से कोई भी लक्षण देखते हैं, तो तुरंत अपने चिकित्सक से संपर्क करें और निर्देशानुसार उपचार का पालन करें. 

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT