मन की बात: पीएम मोदी ने खेल पर दिया जोर

पीएम मोदी ने कहा कि आज का युवा मन बने बनाए रास्तों पर चलना नहीं चाहता है. वो नए रास्ते बनाना चाहता है

  • 804
  • 0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' के जरिए देशवासियों को संबोधित किया. मन की बात कार्यक्रम का यह 80वां एपिसोड था. पीएम मोदी ने कार्यक्रम के शुरुआत में मेजर ध्यानचंद की जयंती पर उन्हें याद किया. 

पीएम मोदी ने कहा कि मेजर ध्यानचंद की आत्मा जहां भी होगी, प्रसन्न होगी क्योंकि दुनिया में भारत की हॉकी डंका ध्यानचंद की हॉकी स्टिक से बजा था और एक बार फिर भारतीय हॉकी खिलाड़ियों ने 41 साल बाद हॉकी में देश का नाम ऊंचा किया. उन्होंने कहा कि कितने ही पदक क्यों न मिल जाएं, लेकिन जब तक हॉकी में पदक नहीं मिलता भारत का कोई भी नागरिक विजय का आनंद नहीं ले सकता है और इस बार ओलंपिक में हॉकी का पदक मिला, चार दशक के बाद मिला.

युवाओं का मन बदल रहा है- पीएम मोदी 

पीएम मोदी ने आगे कहा कि जब खेल-कूद की बात होती है न, तो स्वाभाविक है हमारे सामने पूरी युवा पीढ़ी नजर आती है. और जब युवा पीढ़ी की तरफ गौर से देखते हैं ... कितना बड़ा बदलाव नजर आ रहा है. युवा का मन बदल चुका है. पीएम मोदी ने कहा कि आज का युवा मन बने बनाए रास्तों पर चलना नहीं चाहता है. वो नए रास्ते  बनाना चाहता है. unknown जगह पर कदम रखना चाहता है. मंजिल भी नयी, लक्ष्य भी नए, राह भी नयी और चाह भी नयी, अरे एक बार मन में ठान लेता हैं न युवा, जी-जान से जुट जाता है. दिन-रात मेहनत कर रहा है.


पीएम मोदी ने कहा कि हम देखते हैं, अभी कुछ समय पहले ही, भारत ने, अपने स्पेस सेक्टर को ओपन किया और देखते ही देखते युवा पीढ़ी ने उस मौके को पकड़ लिया और इसका लाभ उठाने के लिए कॉलेजों के स्टूडेंट्स, .यूनिवर्सिटी, प्राइवेट सेक्टर में काम करने वाले नौजवान बढ़-चढ़ करके आगे आए हैं. 



स्वच्छता पर जोर

पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्र निर्माण के लिए सबके प्रयास हमें प्रेरणा देते हैं. हम यह जानते हैं जब भी स्वच्छ भारत का नाम आता है तो इंदौर का नाम आता ही आता है. इंदौर कई वर्षों से स्वच्छ भारत की रैंकिंग में शीर्ष पर बना हुआ है. पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना संकट काल में मुझे स्वच्छता को लेकर  जितनी बात होनी चाहिए थी, उसमें कुछ कमी रह गई. पीएम मोदी ने कहा कि इंदौर के नागरिकों ने नालियों को सीवर लाइंस से जोड़ा है. स्वच्छता अभियान भी चलाया है. इस वजह से सरस्वती और कान नदी में गिरने वाला गंदा पानी काफी कम हुआ है. 



खेलों को बढ़ावा देने से ही भारत नई ऊंचाई हासिल करेगा

पीएम मोदी ने कहा कि अब देश में खेल, खेल-कूद को लेकर खेल भावना अब रुकना नहीं है. इस मोमेंटम  को पारिवारिक जीवन में, सामाजिक जीवन में, राष्ट्र जीवन में स्थाई बनाना है, ऊर्जा से भर देना है, निरंतर नई ऊर्जा से भरना है. सबके प्रयास से ही भारत खेलों में वो ऊंचाई प्राप्त कर सकेगा, जिसका वो हकदार है. मेरे प्यारे नौजवानों, हमें इस अवसर का फायदा उठाते हुए अलग-अलग प्रकार के Sports में महारत भी हासिल करनी चाहिए. गांव-गांव खेलों की स्पर्धाएं निरंतर चलती रहनी चाहिए.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT