रूपेश सिंह हत्याकांड ने हिलाया पूरा बिहार, नेताओं की राजनीति के बीच उठ रहे हैं ये तमाम सवाल

पटना में रूपेश सिंह हत्याकांड ने पूरे बिहार को हिलाकर रख दिया। जानिए इस मर्डर से जुड़े वो तमाम सवाल जो बिहार पुलिस के साथ-साथ नीतीश कुमार के लिए परेशानी खड़ी कर सकते हैं।

  • 2290
  • 0

बिहार में अपराध का सिलसिला किसी भी तरह से थमता हुआ नजर नहीं आ रहा है। लगातार हत्या की घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है। हाल ही में मंगलवार की शाम पटना में कुछ हथियारबंद अपराधियों ने सरेआम इंडिगो के स्टेशन हेड रूपेश सिंह को उनके घर के पास ही गोली मारकर मौत की घाट उतार दिया। ये मामला काफी पैचीदा होता हुआ नजर आया और इसे सुलाझने के लिए हर गंभीर केस की तरह इसमें भी पुलिस ने स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम यानी एसआईटी का गठन कर दिया जोकि जांच के लिए पटना पहुंच गई है। पुनाइचक इलाके में जो घटना हुई इसके बाद आसपास के कई इलाकों में जांच शुरू कर दी गई। वहीं, इस गंभीर केस में पुलिस के हाथ एक सबूत लगा है जोकि अपराधियों तक पहुंचाने का काम कर सकता है। वहीं, हम यहां उन सवालों के बारे में चर्चा करेंगे जो पुलिस के लिए सिरदर्द बने हुए हैं और राजनीति की दुनिया में इस हत्याकांड ने क्या बवाल मचा दिया है। आइए इस पर डालते हैं एक नजर।

पुलिस के पास केवल ये है एक अहम सबूत!

रूपेश के आपार्टमेंट के पास एक सीसीटीवी कैमरे में एक बाइक पर दो व्यक्तियों को जाते हुए देखा गया। ऐसे में पुलिस ने उनकी तलाश करना और तेज कर दी है। वहीं रूपेश की कार भी इस वक्त पुलिस के ही कब्जे में है। इसके अलावा कार में जो मोबाइल मिला है पुलिस उसे भी लगातार खंगालने में जुटी हुई है।


सीएम के आवास से 2 किमी की दूरी पर हुई घटना

आपको ये जानकार हैरानी होगी कि ये हाईप्रोफाइल मर्डर सीएम नीतीश कुमार के आवास से महज 2 किलोमीटर की दूर पर हुआ। शुरुआती जांच में ये सामने आया है कि इस मर्डर को किस सुपरी शार्प शूटर्स ने अंजाम दिया होगा। पटना एयरपोर्ट से रूपेश  के घर जाने की ओर जाने की जानकारी भी शायद किसी ने दी होगी। 


विपक्ष के घेरे में आते दिखे नीतीश कुमार

इस हत्याकांड को लेकर इस वक्त नीतीश कुमार एक बार फिर से विपक्ष के घेरे में आते हुए नजर आ रहे हैं। आरजेडी नेता और पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने निशाना साधते हुए एक ट्वीट किया है। अपनी बात रखते हुए उन्होंने कहा- अनैतिक और अवैध सरकार के संरक्षण में अपराधों और दुष्कर्मों की प्रतिदिन संख्या बढ़ना एनडीए की सामूहिक विफलता है। नीतीश जी द्वारा अपराधों को छिपाने की चेष्टा एवं उसे स्वीकार नहीं करना ही सबसे बड़ा अपराध और अपराधियों के लिए रामबाण है। उनसे बिहार नहीं संभल रहा, वो अविलंब इस्तीफा दें। यानी साफ तौर पर इस घटना के बाद तेजस्वीर ने नीतीश कुमार से इस्तीफा मांग लिया है। 

अपराधी चला रहे हैं सरकार

साथ ही तेजस्वी यादव ने ये भी कहा है कि रूपेश कुमारसिंह काफी मिलानसार और मददगार स्वभाव के एक धनी इंसान थे। उनकी मौत से वो काफी दुखी है। इतना ही नहीं एक तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि बिहार में अब अपराधी ही सरकार को चला रहे हैं।


बीजेपी और आरजेडी के नेताओं ने बिहार सरकार पर खड़े किए सवाल

इस मामले को लेकर बीजेपी के सांसद विवेक ठाकुर का कहना है कि ये हत्या बिहार सरकार पर सवाल खड़ा करती है। इसके अलावा आरजेडी नेता भाई वीरेंद्र ने अपनी बात रखते हुए कहा कि बिहार में कानून व्यवस्था खत्म हो गई है। वहीं, आरजेडी के नेता मनोज झा का भी यही कहना है कि सरकार को कानून व्यवस्था की कुछ पड़ी ही नहीं है। 

अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए किसी भी हद तक जाएंगे: डिप्टी सीएम

इन सबके बीच बिहार के डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद का ये कहना है कि रूपेश सिंह की जो हत्या हुई है वो दुर्भाग्यपूर्ण है। सरकार इसको लेकर काफी ज्यादा चिंता में है। हमारी सरकार हत्यारों को तुरंत गिरफ्तार करेगी, जिसके लिए किसी भी हद तक जाना होगा।


बिहार पुलिस के लिए ये सवाल हैं सिरदर्द

सवाल नंबर 1- क्या रूपेश की किसी के साथ थी कोई रंजिश?

सवाल नंबर 2- इस हत्याकांड के पीछे आखिर कौन सी है सोची समझी साजिश?

सवाल नंबर 3- अपार्टमेंट के सीसीटीवी का कई सालों से खराब पड़ा होना

सवाल नंबर 4- जब अपराध को दिया गया अंजाम तो उस वक्त गार्ड कहां था?

2020 में इतने हुए हैं मर्डर केस

वर्ष 2020 के लिए बिहार का तुलनात्मक महीने के आधार पर अपराध का डेटा जो सामने आया है उसमें मर्डर के केस 2649 देखने को मिले हैं। ये तब के हाल है जब कोरोना वायरस ने अपने कहर लोगों पर बरसाया हुआ था।

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT
©2023 Instafeed