दिवाली के मौके पर मेन्यू में शामिल करें यें लोकप्रिय भारतीय पारंपरिक पकवान, खुशी हो जाएगी दोगुनी

स्नैक्स या कोई भी मिठाई हो दिवाली कभी भी कुछ पारंपरिक भारतीय पकवानों के बिना पूरी नहीं होती है। ऐसे में हम आपको दीवाली मनाने के लिए भारत के कुछ लोकप्रिय पारंपरिक खाद्य पकवानों के बारे में बताएंगे

  • 3270
  • 0

रोशनी से जगमगाता त्यौहार दिवाली दस्तक देने ही वाला है। साथ ही दिवाली को रोशनी के साथ पकवानों का त्योहार भी कहा जाता है क्योंकि इस दिन कई तरह के पकवान बनाए जाते हैं। भोजन जोकि दीवाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है क्योंकि लोग इस त्योहार के दौरान अपनी स्वादिष्ट कलियों को संतुष्ट करने के लिए विभिन्न स्वादिष्ट तैयारियों में शामिल होना पसंद करते हैं। 

 स्नैक्स या कोई भी मिठाई हो दिवाली कभी भी कुछ पारंपरिक भारतीय पकवानों के बिना पूरी नहीं होती है। ऐसे में हम आपको दीवाली मनाने के लिए भारत के कुछ लोकप्रिय पारंपरिक खाद्य पकवानों के बारे में बताएंगे जिन्हें आप घर पर आसानी से बना सकते हैं। आइए देखिए यहां........ 

खील बताशा


दिवाली में दिल्ली की सबसे लोकप्रिय मिठाइयों में से एक है खील बटाश या मीठा पका हुआ चावल।खील चावल से तैयार की जाती है, जो भारत में एक प्रमुख अनाज होता है। देश के अधिकांश हिस्सों में मध्य वर्ष के आसपास चावल बोया जाता है, और दिवाली के समय काटा जाता है। चावल से तैयार खील बताशा को स्वास्थ्य, धन और समृद्धि सुनिश्चित करने के लिए देवी लक्ष्मी को अर्पित किया जाता है।

मावा कचौरी


मावा कचोरी दिवाली के लिए राजस्थान की एक लोकप्रिय पकवान है जिसे सूखे मेवों और खोये की स्टफिंग के साथ बनाया जाता है और फिर इसे चीनी की चाशनी में डुबोया जाता है। आप इसे शानदार व्यंजन या फिर शानदार मिठाई के रुप में भी बना सकता है।

मोती पाक

राजस्थान और गुजरात मोती पाक के लिए लोकप्रिय हैं, जिसे छोले के आटे, खोआ और चीनी के साथ तैयार किया जाता है।यह लोकप्रिय मिठाई हमें मोतीचूर के लड्डू की याद दिलाती है जिसको खा के मन संतुष्ट हो जाता है। 

आलू बोंडा/बटाटा वड़ा 


आलू बोंडा दक्षिण भारत में सड़क के किनारे मिलने वाला एक लोकप्रिय स्नैक है। इसको बनाने के लिए उबले हुए आलु को बेसन  के साथ डीप फ्राई किया जाता है उसको कुरकुरा होने तक तला जाता है और फिर इसे परोसा जाता है।

मुरुक्कू


मुरुक्कू दक्षिण भारत का लोकप्रिय स्नैक है जो चावल के आटे के साथ बनाया जाता है। यह उत्तर भारत में चकली के रूप में जाना जाता है। इसको बनाने में काफी कम समय लगता है जिसको आप चाय के साथ आनंद लेने के लिए भी बना सकते है। 

रसगुल्ला


रसगुल्ला एक बंगाली मिठाई है जो पनीर के साथ बनाई जाती है जो चीनी की भरी चाशनी में डूबी रहती है। केवल बंगाल में ही नहीं बल्कि रसगुल्ला पूरे देश में लोकप्रिय है। 

तैपि गावलु

तैपि गावलु आंध्र प्रदेश की लोकप्रिय स्नैक में से एक है। इसका नाम तेलुगु भाषा में रखा गया है जिसका अर्थ है मीठे गोले। ये आटे के रोल के आकार के होते हैं जिन्हें आटे और गुड़ के साथ बनाया जाता है और फिर उन्हें डीप फ्राई करके चीनी की चाशनी में डुबोया जाता है।

दिवाली के लिए अन्य पारंपरिक पकवान

मिठाईयों की सूची अभी समाप्त नहीं हुई है जिन्हें आप घर पर आजमा सकते हैं जैसे....

चिरौंजी की बर्फी, समोसा, अरसा, करंजियां, शंकपेल, गुलगुले, मोहनथल, दीपावली मारुंडु, ठेकुझल, सिंगल, पिन्नी, लपसी रवा शिरा, चोलाफली, रसबली, गजरेला, अत्ता लड्डू, गुझिया, गुझिया हलवा, प्याज भाजी, गुलाब जामुन इत्यादि को घर में बनाकर दीवाली को और   बेहतर  ढंग से मना सकते हैं।

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT