Life in a Metro: कोरोना के कहर के बीच दौड़ पड़ी दिल्ली मेट्रो, जानिए कैसे करें सुरक्षित यात्रा

कोरोना वायरस महामारी की वजह पिछले पांच महीने से बंद पड़ी दिल्ली मेट्रो की सेवाओं को आज यानी 7 सितंबर से शुरू कर दिया गया है। सबसे पहले येलो लाइन से शुरूआत हुई है।

Life in a Metro: कोरोना के कहर के बीच दौड़ पड़ी दिल्ली मेट्रो, जानिए कैसे करें सुरक्षित यात्रा
कोरोना के कहर के बीच दौड़ पड़ी दिल्ली मेट्रो [credit twitter]

कोरोना वायरस महामारी की वजह पिछले पांच महीने से बंद पड़ी दिल्ली मेट्रो की सेवाओं को आज यानी 7 सितंबर से शुरू कर दिया गया है। सबसे पहले येलो लाइन से शुरूआत हुई है। जिसके बाद धीरे-धीरे करके हर रूट पर सेवाओं को उपलब्ध कराया जाएगा। दिल्ली मेट्रो ने सोमवार 7 सितंबर से श्रेणीबद्ध तरीके से अपनी सेवाओं को फिर से शुरू किया है। जिसमे पहले चरण में 7 से 11 बजे और 4 से 8 बजे तक पहली ट्रेनें समयपुर बादली से हुडा सिटी सेंटर के लिए और हुडा सिटी सेंटर से समयपुर बादली के लिए रवाना हुईं। मेट्रो में सफर के दौरान यात्री थोड़े असहज जरूर दिखे, मगर कोरोना को लेकर तैयारियों से संतुष्ट भी थे। मेट्रो में कदम पड़ते ही उनके चेहरे खिल उठे।ऐसे स्थिति के कारण अब दिल्ली मेट्रो का सफर पहली की तरह बिल्कुल भी नहीं रहा है। तो आज हम आपको बताते है कि आखिर इन पांच महीनों में दिल्ली मेट्रो के सफर में क्या परिवर्तन आया है।

मास्क पहनना अनिवार्य हुआ

हम सभी लोगों को दिल्ली मेट्रो में सफर करने के लिए अपने चेहरे पर मास्क पहनना जरूरी होगा। इसके अलावा स्टेशन पर मौजूद सीढ़ियों से नीचे उतरने से पहले और चढ़ने से पहले अपने हाथों को साफ करना जरूरी है। यदि कोई व्यक्ति बिना मास्क के पाया गया तो उसको जुर्माना देना होगा।

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन होगा ऐसे

दरअसल लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए दिल्ली मेट्रो के स्टेशनों में लाल रेखाएं और कोविद से संबंधित सभी जरूरी सावधानियों का उल्लेख किया गया है। ताकि लोगों उन नियमों का ध्यान रखें। इसके अलावा जब भी कोई इंसान मेट्रो स्टेशन के अंदर प्रवेश करेंगा उसको थर्मल चेक कराना जरूरी होगा। यात्रियों को तापमान मापने और हाथ सैनिटाइज करने के बाद ही मेट्रो स्टेशन परिसर में जाने दिया जा रहा है।

कर्मचारी और सुरक्षा बल भी मास्क और दस्ताने पहने दिखे

दरअसल मेट्रो स्टेशन परिसर में लोगों की जांच करने वाले  सुरक्षा बल भी मास्क और दस्ताने पहने दिखे है और जो कर्मचारी मेट्रो स्टेशन पर कार्यरत है वह भी फेस शील्ड, मास्क और दस्ताने पहने दिखे।

हर वैकल्पिक सीट में एक पीला स्टिकर मौजूद

दिल्ली मेट्रो के हर डिब्बे में हर वैकल्पिक सीट में एक पीला स्टिकर चिपका हुआ मिला है ताकि मेट्रो में सही तरह से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो सके। जिससे यात्री थोड़ी दूरी पर बैठें और भीड़-भाड़ में बच सकें। 

चुनौती भी बड़ी हैं

कोरोना वायरस फैलने से पहले दिल्ली मेट्रो में प्रतिदिन लगभग 27 लाख यात्री अपना सफर पूरा करते थे। बेशक दिल्ली मेट्रो की बहाली निश्चित रूप से एक बड़ी राहत के रूप में सामने आई है, लेकिन DMRC के लिए प्रोटोकॉल के सख्त नियमों का पालन को सुनिश्चित करने के लिए चुनौती भी काफी बड़ी है।

कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या  हुई इतनी

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक भारत में अब कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 42,04,613 पहुंच गई है। जबकि दिल्ली में कल संक्रमण के एक दिन में सर्वाधिक 3,256 नये मामले सामने आने के बाद मामलों की कुल संख्या 1,91,499 पहुंच गई है।