अब मात्र 2 घंटे में हो जाएगी ओमिक्रॉन की पहचान, जानिए कैसे

भारत में भी कोरोना वायरस का एक नया रूप ओमिक्रॉन फैलने लगा है. वहीं, इसका पता लगाने के लिए मौजूदा जीनोम सीक्वेंसिंग करनी होगी. इस परीक्षण में अधिक समय लगता है.

  • 2281
  • 0

भारत में भी कोरोना वायरस का एक नया रूप ओमिक्रॉन फैलने लगा है. वहीं, इसका पता लगाने के लिए मौजूदा जीनोम सीक्वेंसिंग करनी होगी. इस परीक्षण में अधिक समय लगता है. हालांकि, अब भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद ने इसका समाधान खोज लिया है.

ये भी पढ़ें:-वैक्सीनेट लोगों पर भी ओमिक्रॉन का खतरा, डॉक्टर ने किया आगाह 

भारतीय वैज्ञानिकों ने एक ऐसी किट बनाई है, जो दो घंटे में ओमिक्रॉन संक्रमण की पहचान कर लेगी. ICMR ने असम के डिब्रूगढ़ में एक कोविड टेस्ट किट तैयार की है, जिससे सिर्फ दो घंटे में ओमिक्रॉन वैरिएंट का पता लगाया जा सकता है. रीयल-टाइम आरटी-पीसीआर परीक्षण हाइड्रोलिसिस जांच-आधारित है.

ये भी पढ़ें:-Delhi: छात्रों पर चाकू से हमला, पीछा कर के बरसाए लाठी-डंडे

जानकारी के मुताबिक, आईसीएमआर के रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर फॉर नॉर्थईस्ट रीजन के वैज्ञानिकों की एक टीम ने इस टेस्ट किट को विकसित किया है. इससे रियल टाइम में ओमरोन वेरिएंट का पता लगाया जा सकता है. टीम ने वैज्ञानिक डॉ. विश्वज्योति बोरकाकोटी के नेतृत्व में किट तैयार की है. यह किसी दिए गए नमूने से दो घंटे में ओमाइक्रोन का पता लगा सकता है. किट का निर्माण कोलकाता की एक कंपनी जीसीसी बायोटेक द्वारा पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मॉडल पर किया जा रहा है. देश के कई राज्यों में ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों को देखते हुए यह किट काफी कारगर साबित होगी.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT