चेतावनी! Diavol PC वायरस से रहे सावधान, भारत सरकार ने दी चेतावनी

इस वायरस को लेकर भारत सरकार की ओर से अलर्ट जारी किया गया है. भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम ने इस वायरस को लेकर चेतावनी दी है.

  • 1086
  • 0

आप सभी सावधान हो जाएं क्योंकि एक और Virus ने दस्तक दे दी है. वहीं इस Virus को लेकर भारत सरकार की ओर से अलर्ट जारी किया गया है. भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम ने इस वायरस को लेकर चेतावनी दी है. यह रैंसमवेयर ईमेल के जरिए फैलता है और यूजर को आर्थिक नुकसान पहुंचाता है. अलर्ट के मुताबिक, यह विंडोज कंप्यूटर को टारगेट कर रहा है. जब पीसी की बात आती है, तो यह हैकर्स को डिवाइस का नियंत्रण देता है और हैकर्स पीसी को रिमोट से लॉक कर देते हैं. इसके बाद वे यूजर्स से पीसी अनलॉक करने के बदले पैसे की मांग करते हैं.

ये भी पढ़ें- Omicron: योगी ने किया बड़े फैसले का ऐलान, अब यूपी में भी लगेगा नाइट कर्फ्यू 

आपको बता दें कि रैंसमवेयर एक तरह का मैलवेयर है जो सिस्टम या जरूरी फाइलों को पूरी तरह से लॉक कर देता है. इसके बाद हैकर्स यूजर्स से बिटकॉइन में पैसे की मांग करते हैं. यदि उपयोगकर्ता भुगतान नहीं करते हैं, तो हैकर्स फ़ाइलें हटा देते हैं या पीसी को अनुपयोगी छोड़ देते हैं.

ये भी पढ़ें- लुधियाना कोर्ट के टॉयलेट में हुआ धमाका, संदिग्ध के उड़े चिथड़े

CERT-In ने अपनी ताजा एडवाइजरी में इस रैंसमवेयर के बारे में बताया है. इस रैंसमवेयर का नाम डियावोल है. एडवाइजरी के मुताबिक, इस रैंसमवेयर को माइक्रोसॉफ्ट विजुअल सी/सी++ कंपाइलर के साथ कंपाइल किया गया है. यह एन्क्रिप्टेड उपयोगकर्ता मोड एसिंक्रोनस प्रक्रिया कॉल के साथ फ़ाइलें बनाता है. सीईआरटी-इन के मुताबिक, डियावोल मालवेयर ईमेल के जरिए फैलता है. इसमें OneDrive का लिंक है. OneDrive लिंक उपयोगकर्ताओं को एक ज़िप फ़ाइल डाउनलोड करने के लिए पुनर्निर्देशित करता है. इसमें आईएसओ फाइल में एलएनके फाइल और डीएलएल शामिल हैं. इसे खोलते ही यूजर का डिवाइस मालवेयर से प्रभावित हो जाता है. इस रैनसमवेयर से बचने के लिए यूजर्स को सॉफ्टवेयर और ऑपरेटिंग सिस्टम को लेटेस्ट पैच से अपडेट करना होगा. सभी इनकमिंग और आउटगोइंग संदेशों को स्कैन करके खतरों का पता लगाने की कोशिश करें. इसके लिए आप कोई भी अच्छा एंटी-वायरस इस्तेमाल कर सकते हैं.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT