डेल्टा से भी ज्यादा खतरनाक है कोरोना का लैंब्डा वेरिएंट, एक्सपर्ट्स ने जताई चिंता

कोरोना वायरस संक्रमण के डेल्टा वेरिएंट के बाद अब लैंब्डा वेरिएंट के ज्यादा खतरनाक होने का दावा किया जा रहा है.

  • 1502
  • 0

कोरोना वायरस संक्रमण के डेल्टा वेरिएंट के बाद अब लैंब्डा  वेरिएंट के ज्यादा खतरनाक होने का दावा किया जा रहा है. मलेशिया के स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसे डेल्टा से ज्यादा खतरनाक बताते हुए इसे चिंता का विषय बताया है। मंत्रालय ने दावा किया है कि पिछले चार हफ्तों में 30 से अधिक देशों में लैंब्डा वेरिएंट के मामलों का पता चला है. मलेशियाई स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को ट्वीट किया, 'लैंब्डा स्ट्रेन सबसे पहले पेरू में पाया गया. यह दुनिया में सबसे ज्यादा मृत्यु दर वाला देश है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक ऑस्ट्रेलियाई समाचार पोर्टल की एक रिपोर्ट का हवाला दिया जिसमें कहा गया था कि यूके में भी लैंब्डा वेरिएंट का पता चला है. द स्टार ने बताया कि शोधकर्ता चिंतित हैं कि यह संस्करण 'डेल्टा से अधिक संक्रामक' हो सकता है. यूरो न्यूज ने पैन अमेरिकन हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (पीएएचओ) के हवाले से कहा कि मई और जून के दौरान पेरू में कुल कोरोनावायरस मामलों में 82 प्रतिशत लैंब्डा  पाया गया. 

यूके को परीक्षण प्रकारों की सूची में जोड़ा गया

एक अन्य दक्षिण अमेरिकी देश चिली में मई और जून के 31 प्रतिशत से अधिक नमूनों में केवल लैंब्डा स्ट्रेन पाया गया। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) पहले ही लैम्ब्डा को दक्षिण अमेरिका में एक प्रकार की चिंता घोषित कर चुका है. डब्ल्यूएचओ ने कहा कि लैम्ब्डा अधिक संक्रामक है और इसमें तेजी से एंटीबॉडीज हैं. इस बीच, पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने अंतरराष्ट्रीय विस्तार और एल452क्यू और एफ490एस सहित कई म्यूटेशनों की जांच के लिए लैंब्डा  को अपने वेरिएंट की सूची में जोड़ा है.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT