भारत में फूटेगा महंगाई बम! ये चीजें होंगी महंगी

रूस और यूक्रेन के बीच जारी तनाव के बीच कच्चे तेल की कीमतें रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई हैं. यूक्रेन में युद्ध शुरू होने के बाद से कच्चे तेल की कीमतों में 20 फीसदी की तेजी आई है.

  • 1387
  • 0

रूस के यूक्रेन पर हमले के बाद कच्चे तेल में तेजी आई है. अमेरिका में कारोबार की वजह से गुरुवार को कच्चे तेल की कीमतें 14 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गईं. यह 116.57 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया, जो 22 सितंबर, 2008 के बाद से इसका उच्चतम स्तर है. तब संकट के कारण लेहमैन ब्रदर्स ने इसे उबाला है. रूस-यूक्रेन संकट के कारण न केवल कच्चे तेल बल्कि खाना पकाने के तेल, खाद्यान्न और गैस की कीमतों में भी भारी वृद्धि हुई है. इसका असर भारत में भी दिखने लगा है और आने वाले दिनों में महंगाई अनियंत्रित हो सकती है. यूक्रेन में एक सप्ताह तक चली लड़ाई ने वैश्विक अर्थव्यवस्था की हैक को हिला कर रख दिया है. पश्चिमी देशों के प्रतिबंधों ने रूस को अलग-थलग कर दिया है, उसकी मुद्रा और वित्तीय संपत्ति को बुरी तरह प्रभावित किया है, और ऊर्जा और खाद्यान्न की कीमतें आसमान छू गई हैं. विश्व बैंक के अनुसार, रूस 1.5 ट्रिलियन डॉलर के साथ दुनिया की 11वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है. रूस के पास तेल और गैस का बड़ा भंडार है. यही वजह है कि रूस से आपूर्ति बाधित होने की आशंका से कच्चे तेल में तेजी आई है.

20% महंगा हुआ कच्चा तेल:-

रूस और यूक्रेन के बीच जारी तनाव के बीच कच्चे तेल की कीमतें रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई हैं. यूक्रेन में युद्ध शुरू होने के बाद से कच्चे तेल की कीमतों में 20 फीसदी की तेजी आई है. यूरोप में प्राकृतिक गैस की कीमत रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है. एक रिपोर्ट के मुताबिक एशिया में भारत पर इसका सबसे ज्यादा असर पड़ सकता है. भारत अपनी जरूरत का 80 फीसदी कच्चे तेल का आयात करता है.

चौतरफा महंगाई का खतरा:-

कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी का असर सीमेंट, एयरलाइंस, पेंट बनाने वाली कंपनियों, एफएमसीजी और ऑटो सेक्टर पर पड़ेगा. बिजली और ईंधन की लागत सीमेंट कंपनियों की कुल परिचालन लागत का 25 से 30 फीसदी है. इसी तरह एविएशन फ्यूल के महंगे होने से एयरलाइन कंपनियां भी प्रभावित होंगी. कच्चे तेल का व्यापक रूप से पेंट में उपयोग किया जाता है. इसी तरह, पैकेजिंग और परिवहन महंगा होने से एफएमसीजी कंपनियों की लागत बढ़ेगी. तेल की कीमत से ऑटो सेक्टर भी प्रभावित होगा. इसका मतलब है कि तेल की कीमतों में वृद्धि से कीमतों में वृद्धि चौतरफा प्रभावित होगी.

अप्रैल से दोगुने हो सकते हैं गैस के दाम:-

पूरी दुनिया में प्राकृतिक गैस की भारी कमी है और इसका असर भारत में अप्रैल में देखा जा सकता है. इससे देश में गैस की कीमत दोगुनी हो सकती है. सीएनजी, पीएनजी और बिजली के दाम बढ़ेंगे. घरेलू उद्योग आयातित एलएनजी के लिए पहले से ही अधिक कीमत चुका रहे हैं. इसकी वजह है लॉन्ग टर्म कॉन्ट्रैक्ट्स जहां कीमतें कच्चे तेल से जुड़ी होती हैं. लेकिन असली असर अप्रैल में दिखेगा जब सरकार प्राकृतिक गैस की घरेलू कीमतों में बदलाव करेगी.

खाद्य कीमतों में वृद्धि:-

रूस-यूक्रेन युद्ध ने वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला पर दबाव बढ़ा दिया है, जिससे कई अन्य चीजों की कीमतों में भी वृद्धि हुई है. यूक्रेन और रूस में दुनिया के गेहूं उत्पादन का 14% हिस्सा है. इन दोनों देशों का दुनिया भर में कुल गेहूं निर्यात का 29 प्रतिशत हिस्सा है. इससे दुनिया भर में गेहूं की कीमत बढ़ सकती है.

खाने के तेल में भी उबाल लें:-

कोरोना महामारी और अब रूस-यूक्रेन में जंग के चलते खाद्य तेलों के दाम बढ़ गए हैं. हालांकि अभी इसका असर सरसों तेल की कीमतों पर नहीं पड़ा है, लेकिन जानकारों का मानना ​​है कि आने वाले समय में इसका असर सरसों तेल की कीमतों पर पड़ सकता है. दरअसल, देश भर के बाजारों में खाद्य तेलों की कीमतों में भारी उछाल देखने को मिल रहा है. विशेष रूप से रिफाइंड और सूरजमुखी तेल की कीमतों में पिछले 15 दिनों के भीतर लगभग 30 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है. 15 दिन पहले जहां रिफाइंड 140 रुपये प्रति लीटर था, वहीं अब बढ़कर 165 रुपये प्रति लीटर हो गया है. सूरजमुखी तेल पहले 140 रुपये था, जो अब 170 रुपये हो गया है. वहीं, देसी घी की कीमत पहले 360 रुपये प्रति लीटर थी, जो अब 420 रुपये और वनस्पति तेलों की कीमतों में 20 रुपये की वृद्धि हुई है.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT