यूपी में भी लगा वीकेंड लॉकडाउन, बिना मास्क पकड़े जाने पर लगेगा इतने का जुर्माना

कोरोना के बढ़ते केस को देखते हुए पूरे उत्तर प्रदेश में रविवार को वीकेंड लॉकडाउन लगाने का फैसला किया गया है. वही आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी बाज़ार- दफ्तर बंद रहेंगे.

  • 1516
  • 0

कोरोना के बढ़ते केस को देखते हुए पूरे उत्तर प्रदेश में रविवार को वीकेंड लॉकडाउन लगाने का फैसला किया गया है. अब यूपी में सभी शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में रविवार को बंदी रहेगी. आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी बाज़ार- दफ्तर बंद रहेंगे. इस दिन व्यापक सेनेटाइजेशन अभियान चलेगा. इसके साथ -साथ मास्क न पहनने वालों पर एक हजार रुपये का जुर्माना लगेगा.

ये भी पढ़े:अयोध्या: राम मंदिर निर्माण के लिए मिले 22 करोड़ रुपये के चेक बाउंस

समीक्षा बैठक में लिया गया ये फैसला

 सीएम योगी आदित्यनाथ ने सभी मंडलायुक्तों, जिलाधिकारियों, सीएमओ और टीम-11के सदस्यों साथ समीक्षा बैठक के बाद यह फैसला किया. प्रदेश के सभी ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों में रविवार को साप्ताहिक बन्दी होगी. प्रदेश में सभी के लिए मास्क लगाना अनिवार्य होगा, पहली बार मास्क के बिना पकड़े जाने पर 1000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा.

वाराणसी में दो दिन लगेगा वीकेंड लॉकडाउन

वहीं, कोविड -19 के बढ़ते मामलों के कारण वाराणसी जिला प्रशासन ने सप्ताहांत में शनिवार और रविवार को लॉकडाउन की घोषणा की है. दोनों दिन बनारस पूरी तरह से बंद रहेगा. केवल दूध, ब्रेड, फल और सब्जी की दुकानों को सुबह 10:00 बजे तक खोलने की अनुमति होगी. शराब की दुकानें और बार भी दो दिनों के लिए बंद रहेंगे. धार्मिक स्थलों पर भी प्रतिबंध लागू होगा.

ये भी पढ़े:मधुमक्खियां इंसानों को काटने के बाद ख़ुद ही क्यों मर जाती हैं, जानिए कारण

बिना मास्क दूसरी बार पकड़े जाने पर 10 हजार  रुपये का जुर्माना

यूपी सरकार के नए फरमान के मुताबिक, दूसरी बार पकड़े जाने पर दस गुना अधिक जुर्माना लगाया जाएगा. सीएम योगी आदित्यनाथ ने कानपुर, प्रयागराज, वाराणसी जैसे अधिक संक्रमण दर वाले सभी 10 जिलों में व्यवस्था और सुदृढ़ करने और स्थानीय जरुरतों के अनुसार नए कोविड हॉस्पिटल बनाने का आदेश दिया.

एल -2 और एल -3 अस्पतालों की संख्या बढ़ाने का आदेश

समीक्षा बैठक के दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि डेडिकेटेड कोविड अस्पतालों की संख्या बढ़ाई जाए,  एल -2 और एल -3 स्तर के अस्पतालों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी की जाए, कहीं भी बेड की कमी कतई न हो, अस्पतालों में प्रशिक्षित मानव संसाधन की व्यवस्था सुनिश्चित करें, एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन तथा बस स्टेशनों पर रैपिड  एन्टीजन टेस्ट हो.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT