लखीमपुर हिंसा: FSL रिपोर्ट में हुआ बड़ा खुलासा, आशीष-अंकित की गन से हुई थी फायरिंग

लखीमपुर हिंसा में एक नया मोड़ सामने आया है. केस में अब फॉरेंसिक लैब की सामने आई रिपोर्ट में फायरिंग की पुष्टि हुई है. जानिए अब कैसे बढ़ सकती है आशीष मिश्रा और अंकित दास की मुसीबत.

  • 793
  • 0

लखीमपुर हिंसा में एक नया मोड़ सामने आया है. केस में अब फॉरेंसिक लैब की सामने आई रिपोर्ट में फायरिंग की पुष्टि हुई है. केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा और उसके करीबी अंकित दास के लाइसेंसी असलहा की बैलेस्टिक रिपोर्ट में फायरिंग की पुष्टि हुई है. इससे एक चीज तो साबित हो गई है कि तिकुनिया में हिंसा के वक्त लाइसेंसी असलहे से फायरिंग भी की गई थी.

दरअसल आपकी जानकारी के लिए बता दें कि तिकुनिया हिंसा के वक्त किसानों की ओर से बीजेपी नेताओं द्वारा फायरिंग करने का मामला भी उठाया गया था.  इसके चलते लखीमपुर पुलिस ने अंकित दास की रिपीटर गन, पिस्टल और आशीष मिश्रा की राइफल और रिवॉल्वर को जब्त किया गया था. चारों असलहो की एफएसएल रिपोर्ट को मांगा गया था. रिपोर्ट में ही फायरिंग की पुष्टि हुई.

सामने आई रिपोर्ट में ये बात साबित हो गई कि आशीष मिश्रा के लाइसेंसी असलहे से ही फायरिंग की गई थी, लेकिन अभी ये बात साफ नहीं हो पाई है कि फायरिंग राइफल से हुई थी या फिर रिवॉल्वर से. इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट अब आशीष मिश्रा और अंकित दास की मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ सकती है. इस वक्त दोनों जेल में बंद है.

जानिए क्या है लखीमपुर हिंसा मामला

3 अक्टूबर के दिन लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में किसानों का एक ग्रुप यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की यात्रा के खिलाफ प्रदर्शन कर रहा था, तभी तीन गाड़ियों के काफिले ने किसानों को कुचल दिया. इस हादसे में चार किसानों और एक पत्रकार की मौके पर ही मौत हो गई है.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT