मैं किसकी बी टीम हूं, गोमती रिवर फ्रंट पर ढोकला-चाय पर पीएम मोदी, राहुल गांधी-केजरीवाल को बुलाकर पूछूंगा: ओवैसी

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि, मैं रिवर फ्रंट पर एक टेबल लगाता हूं, ढोकला और चाय रखता हूं. पीएम मोदी को बिठाता हूं. पैदल-पैदल चल रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को भी बुला लेता हूं और पूछता हूं कि...

  • 380
  • 0

असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM को बी टीम बताए जाने पर असदुद्दीन ओवैसी भड़क गए हैं. उन्होंने बीजेपी, कांग्रेस, आम आदमी पार्टी पर पलटवार किया है. ओवैसी ने कहा कि वो साबरमती रिवर फ्रंट पर पीएम मोदी, कांग्रेस नेता राहुल गांधी और दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल को बुलाएंगे और पुछेंगे कि आखिर वो किसकी टीम में  हैं. बयान में ओवैसी ने आगे कहा कि, मैं रिवर फ्रंट पर एक टेबल लगाता हूं, ढोकला और चाय रखता हूं. पीएम मोदी को बिठाता हूं. पैदल-पैदल चल रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को भी बुला लेता हूं और पूछता हूं कि तीनों बैठकर फैसला कर लो मैं क्या हूं तुम्हारा, मैं कौन सी टीम का हूं. 

अमित शाह के बयान का पलटवार 

गौरतलब है कि गुजरात में विधानसभा के चुनाव चल रहे हैं इस बीच तमाम राजनीतिक पार्टियां एक दूसरे पर निशाना साधती हैं और  AIMIM को बी टीम बतती है. इसी को लेकर ओवैसी का गुस्सा फूटा है. बीते दिन ओवैसी ने गृहमंत्री के इस बयान पर ऊपर हमला बोले थे. बीजेपी ने 2002 में गुजरात में दंगाइयों को सबक सिखाया. ओवैसी ने कहा  ट्वीट करते हुए कहा था, शाह सत्ता के नशे में हैं. भारत के गृह मंत्री ने कहा कि हमने 2002 में सबक सिखाया.

AIMIM नेता ने कहा था, हम अमित शाह को याद दिलाते हैं कि सत्ता स्थाई नहीं होती. गुजरात विधानसभा चुनाव में AIMIM के उम्मीदवारों के लिए प्रचार कर रहे ओवैसी ने लिखा था, सत्ता में आने के बाद कुछ लोग भूल जाते हैं कि सत्ता हमेशा किसी के पास नहीं रहती है. गुजरात में 1 दिसंबर को पहले चरण का मतदान हो चुका है. अब 5 तारीख को दूसरे चरण के लिए वोट डाले जाएंगे. 8 दिसंबर को नतीजों का ऐलान होगा.

बीजेपी पर बोले हमला 

ओवैसी ने आगे कहा था कि,  मैं गृह मंत्री को बताना चाहता हूं कि आपने 2002 में जो सबक सिखाया था, वह यह था कि बिलकिस बानो के बलात्कारियों को रिहा कर दिया जाएगा. आपने सिखाया था कि आप बिलकिस की तीन साल की बेटी के हत्यारों को छोड़ देंगे. आपने हमें यह भी सिखाया कि अहसान जाफरी को मारा जा सकता है. आपने गुलबर्ग सोसाइटी का पाठ पढ़ाया, आपने बेस्ट बेकरी का पाठ पढ़ाया, आपके कौन से पाठ हम याद रखेंगे.


RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT