जानिए क्या कोवैक्सीन में इस्तेमाल हुआ गाय के बछड़े का खून? कंपनी ने दी सफाई

कोवैक्सीन से जुड़ी सामने आई चौंकाने वाली बात, कांग्रेस नेता का आरोप वैक्सीन में इस्तेमाल हुआ गाय के बछड़े के सीरम.

  • 1895
  • 0

वैक्सीन के जरिए कोरोना को मात देने का काम इस वक्त किया जा रहा है. वैक्सीन को लकेर अलग-अलग तरह की बातें इस वक्त सामने आ रही है. इस बीच कांग्रेस के नेता गौरव पांधी ने एक ऐसा दावा कर दिया है, जिसे कई लोगों के होश उड़ा दिए हैं. भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को लेकर गौरव का कहना है कि वैक्सीन बनाने के लिए गाय के बछड़े के सीरम का इस्तेमाल होता है. इस बात का दावा एक आरटीआई में मिले जवाब के आधार पर उन्होंने किया है. अब इसके बाद इस बात को लेकर बहस शुरू हो चुकी है की क्या ये बात सही है या गलत. ऐसे में बायोटेक को अपनी सफाई तक देनी पड़ी है.

ये भी पढ़ें: बिहार: आग में बाल-बाल बचा मांझी परिवार, मंत्री संतोष सुमन के बंगले में लगी आग

{{img_contest_box_1}}

गौरव पांधी का ये कहना है कि कम उम्र वाले गाय के बछड़े के सीरम का इस्तेमाल वैक्सीन में होता है. ऐसा है तो सरकार के द्वारा पहले इस बारे में जानकारी क्यों नहीं दी गई है. ऐसा क्या इसीलिए किया गया क्योंकि इससे धार्मिक भावनाएं आहत हो सकती है. अपने ट्वीट में उन्होंने कई सवाल तक खड़े किए हैं.

आरटीआई जो शेयर की गई है उसके मुताबिक कंपनियों द्वारा दिए गए डाटा के मुताबिक गाय के बछड़े के सीरम का इस्तेमाल वीरो सेल्स के रिवाइवल प्रोसेस के लिए होता है. इस पूरे मामले में सवाल खड़े होने के बाद जवाब देते हुए भारत बायोटेक ने सफाई जारी कर कहा कि वायरल टीकों को बनाने के लिए गाय के बछड़े के सीरम का इस्तेमाल किया जाता है. सेल्स की ग्रोथ के लिए ये होता है. लेकिन  SARS CoV2 वायरस की ग्रोथ या फाइनल फॉर्मूला में इसका इस्तेमाल नहीं हुआ है.  

 ये भी पढ़ें:  गाजा सिटी पर इजरायल ने किया हवाई हमला, दूर-दूर तक दिखीं धमाके की लपटें

भारत बायोटेक का ये कहना है कि  कोवैक्सीन पूरी तरह से शुद्ध ही है. इसे अशुद्धियों से हटाकर तैयार किया गया है. बछड़ों के सीरम का उपयोग वैक्सीन के निर्माण के लिए कई दशकों से दुनियाभर में किया जा रहा है. इस बारे में पिछले करीब 9 महीने से सार्वजनिक प्लेटफॉर्म पर बताया जा चुका है.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT