'ब्रेड का सिर्फ एक टुकड़ा बचा है, कोई निकाल ले जाओ हमें', यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों की गुहार!

यूक्रेन के खारकीव में एक बंकर के अंदर फंसे भारतीय छात्र असोयुन हुसैन ने अपना दर्द बयां किया है. केरल के रहने वाले असोयुन हुसैन ने न्यूज एजेंसी से फोन पर बातचीत करते हुए बताया कि यूक्रेन की स्थिति काफी परेशान करने वाली है.

  • 698
  • 0

रूस और यूक्रेन की जंग में कीव और खारकीव शहर पर रूसी सेना के हमले लगातार जारी हैं. इस जंग में यूक्रेन के अब तक सैकड़ों लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि हजारों लोग घायल बताए जा रहे हैं. कीव और खारकीव को छोड़कर भागने की लोग पूरी कोशिश कर रहे हैं. इसी बीच यूक्रेन के खारकीव में एक बंकर के अंदर  फंसे भारतीय छात्र असोयुन हुसैन ने अपना दर्द बयां किया है. केरल के रहने वाले असोयुन हुसैन ने न्यूज एजेंसी से फोन पर बातचीत करते हुए बताया कि यूक्रेन की स्थिति काफी परेशान करने वाली है. उन्हें खाना और दवाइयां भी बड़ी मुश्किल से मिल रही हैं, क्योंकि स्थानीय लोगों को प्राथमिकता दी जा रही है.

 भारतीय छात्र ने सुनाई आपबीती 

भारतीय छात्र ने आपबीती सुनाते हुए कहा, यहां बंकर में तापमान इतनी नीचे जा चुका है मानो बर्फ जम गई हो. पिछले 48 घंटो में  उनके पास ब्रेड का सिर्फ एक टुकड़ा बचा हुआ है. खाना तो दूर पानी के लिए भी उन्हें घंटो इंतजार करना पड़ रहा है. भारतीय छात्रों का कहना है कि यूक्रेन प्रशासन जो मदद कर रहा है उसमें यूक्रेन वासियों को तवज्जों दी जा रही है.    

भारत सरकार का नया प्लान- ऑप्रेशन गंगा

भारतीयों को यूक्रेन से निकालने के लिए भारत सरकार ने नया प्लान बनाया है. इस प्लान के मुताबिक चार मंत्रियों को यूक्रेन के पड़ोसी देश में भेजा जाएगा. केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, किरेन रिजिजू, वी. के सिंह छात्रों की मदद के लिए यूक्रेन के पड़ोसी देशों में जाएंगे. रोमानिया और माल्डोवा में ज्योतिरादित्य सिंधिया, स्लोवाकिया में किरन रिजिजू, हंगरी में हरदीप सिंह पुरी और पोलैंड में वी.के सिंह को भेजा जाएगा. 

ये भी पढे़ं- फीफा ने आगामी विश्वकप से पहले रूस को दिखाया बाहर का रास्ता

LEAVE A REPLY

POST COMMENT