हरियाणा सरकार ने वापस लिया अपना फैसला, विश्वविद्यालयों को नहीं मिलेगा अनुदान

हरियाणा सरकार ने भारी हंगामे के बाद राज्य के विश्वविद्यालयों को अनुदान देने देने के स्थान पर अब कर्ज देने का फैसला वापस ले लिया है.

  • 469
  • 0

हरियाणा सरकार ने भारी विरोध के बाद अब राज्य के विश्वविद्यालयों को कर्ज देने के अपने फैसले में बदलाव किया है. अब पहले की तरह विश्वविद्यालयों को सरकार की ओर से अनुदान दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें:Jammu-Kashmir: तीर्थ यात्रियों के बस में लगी आग, 4 की मौत 22 घायल

अब मिलेगा केवल लोन

आपको बता दें कि, हरियाणा सरकार ने 29 अप्रैल को राज्य के विश्वविद्यालयों को अनुदान के बदले कर्ज देने का फैसला किया था. इसके बाद से सरकार के इस फैसले की लगातार आलोचना हो रही है और इसे लेकर काफी बवाल भी हो रहा है. इस विरोध को देखते हुए सरकार ने अपना फैसला वापस ले लिया है. वहीं राज्य के विश्वविद्यालयों द्वारा सरकार के इस फैसले का काफी विरोध हुआ था. आखिरकार सरकार को झुकना पड़ा और उन्हें अपना कर्ज का फैसला वापस लेना पड़ा.

यह भी पढ़ें:Jammu-Kashmir: राहुल भट्ट की हत्या के बाद आक्रोशित 350 कश्मीरी पंडितो ने दिया इस्तीफा

सभी ने मिलकर किया विरोध

मिली जानकारी के अनुसार, इस फैसले का टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ ने मिलकर विरोध किया था. उनका कहना था कि कर्ज चुकाने के लिए उन्हें फीस बढ़ानी होगी. यह निर्णय ऐसे समय में नहीं लिया जा सकता है, जब छात्र और उनके माता-पिता पहले से ही आर्थिक तंगी का सामना कर रहे हों. सबका यह भी कहना है कि महामारी के दौरान ज्यादातर लोगों की आर्थिक स्थिति खराब हो गई है.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT