100 साल पहले महात्मा गांधी ने देखा था सपना, मोदी सरकार ने कर दिया पूरा

वाराणसी काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर परियोजना प्रतिष्ठित काशी विश्वनाथ मंदिर और गंगा नदी के घाटों को जोड़ती है. इस परियोजना का उद्देश्य घाटों और मंदिर के बीच तीर्थयात्रियों और भक्तों की आसान आवाजाही सुनिश्चित करना है.

  • 903
  • 0

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने लगभग 339 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित काशी विश्वनाथ धाम के चरण 1 का उद्घाटन किया. जब राष्ट्रपिता महात्मा गांधी 100 साल पहले वाराणसी आए थे, तो उन्होंने संकरी गलियों और गंदगी को देखकर दर्द व्यक्त किया था. गांधी जी के नाम पर कई लोग सत्ता में आए, लेकिन पहली बार उनका शानदार काशी का सपना साकार हुआ है: यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, प्रधानमंत्री जो दो दिनों के लिए अपने लोकसभा क्षेत्र में हैं, ने काशी विश्वनाथ मंदिर में भगवान शिव को 'गंगाजल', चंदन, राख और दूध चढ़ाया.

ये भी पढ़ें:-दिल्ली में कब खुलेंगे स्कूल, CM केजरीवाल ने दिया जवाब

उद्घाटन से पहले पीएम मोदी ने काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना की. पीएम नरेंद्र मोदी ने वाराणसी में गंगा नदी में पवित्र डुबकी लगाई. भगवा रंग की पोशाक में पीएम मोदी ने पवित्र नदी पर फूल चढ़ाए और माला पर मंत्रों का जाप किया. उन्होंने काशी विश्वनाथ मंदिर में जलाभिषेक के लिए गंगा से जल भी लिया. 

ये भी पढ़ें:-PM किसान योजना के तहत 2 हजार पाने के लिए करना पड़ेगा ये काम, वरना होगी परेशानी

भारत की प्रतीकात्मक पृष्ठभूमि के खिलाफ भारत माता की एक पत्थर से बनी मूर्ति, और महारानी अहिल्याबाई होल्कर और संत आदि शंकराचार्य की प्रतिमाओं को काशी विश्वनाथ धाम के विशाल परिसर में स्थापित किया गया है, जिसके उद्घाटन के लिए फूलों से सजाया गया है.

ये भी पढ़ें:-आज भी रौंगटे खड़े कर देती है 2 दशक पहले हुए संसद भवन पर हमले

वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर परियोजना प्रतिष्ठित काशी विश्वनाथ मंदिर और गंगा नदी के घाटों को जोड़ती है. इस परियोजना का उद्देश्य घाटों और मंदिर के बीच तीर्थयात्रियों और भक्तों की आसान आवाजाही सुनिश्चित करना है. पहले उन्हें मंदिर तक पहुंचने के लिए भीड़-भाड़ वाली गलियों से गुजरना पड़ता था. परियोजना का पहला चरण, जिसका प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी थोड़ी देर में उद्घाटन करेंगे, 339 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है. पहला चरण लगभग 5 लाख वर्ग फुट के क्षेत्र में फैला हुआ है और इसमें 23 भवन शामिल हैं. 

ये भी पढ़ें:-Miss Universe 2021 हरनाज़ कौर संधु को विश करते हुए प्रियंका चोपड़ा और लारा दत्ता ने किया ये ट्वीट, देखें

परियोजना, जिसकी आधारशिला 2019 में रखी गई थी, पर कुल मिलाकर लगभग 800 करोड़ रुपये खर्च होंगे. भव्य योजना को लागू करने के लिए 300 से अधिक संपत्तियों का अधिग्रहण किया गया है. प्रधान मंत्री कार्यालय (पीएमओ) के एक बयान में कहा गया है कि लगभग 1,400 दुकानदारों, किरायेदारों और मकान मालिकों का पुनर्वास किया गया. परियोजना पर काम के दौरान 40 से अधिक प्राचीन मंदिरों को फिर से खोजा गया. पीएमओ के बयान में कहा गया है कि मूल ढांचे में कोई बदलाव नहीं है, यह सुनिश्चित करते हुए उन्हें बहाल किया गया.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT