भारत में दो मुंह वाली अनोखी बच्ची हुई पैदा, 3 हाथ और 2 नाक के सहारे जी रही है जीवन

भारत में ऐसी बच्ची का जन्म हुआ है, जिसे देखकर हर कोई हैरान है. जानिए उस बच्ची की कहानी जिसके एक नहीं बल्कि दो मुंह और 3 हाथ हैं.

  • 43626
  • 0

भारत के एक कोने से ऐसी खबर सामने आई है जिसने हर किसी को हैरानी में डाल दिया है. यहां हम बात कर रहे हैं ओडिशा के केंद्रपाड़ा की, जहां रविवार के दिन सुबह एक महिला ने प्राइवेट नर्सिंग होम में ऐसी बच्ची को जन्म दिया जिसके एक नहीं बल्कि दो सिर और तीन हाथ हैं. जी हां, ये एक दुर्लभ मेडिकल कंडीशन है. महिला दूसरी बार मां बन चुकी है. बच्ची के बारे में बात करें तो उसके दोनों चेहरों के नाक, मुंह पूरी तरह से विकसित हैं, जोकि आप तस्वीर में देख सकते हैं. दोनों मुंह से बच्ची को आहार दिया जा रहा है. वही दोनों नाक से बच्ची सांस लेने का काम कर रही है.

ये भी पढ़ें: कैसे एक 'फोन चोर' बन गया देश का सबसे युवा अरबपति?

ऑपरेशन के जरिए रविवार की सुबह बच्ची का जन्म हुआ है.  पहले मां और बच्ची दोनों को केंद्रपाड़ा के डिस्ट्रिक्ट हेडक्वार्टर अस्पताल में भर्ती किया गया था, फिर इन्हें खास देखभाल के लिए कटक के सरदार वल्लभभाई पटेल पीजी इंस्टीट्यूट ऑफ पेडियाट्रिक्स में ले जाया गया था. इस वक्त बच्ची की स्थिति स्थिर बताई जा रही है. केंद्रपाड़ा के डिस्ट्रिक्ट हेडक्वार्टर्स  अस्पताल के डॉक्टरों ने इस बात की पुष्टि की है कि ये सियामीज ट्विन्स का केस है. बच्ची के माता-पिता राजनगर क्षेत्र के कानी गांव के निवासी है. DHH केंद्रपाड़ी के पेडियाट्रिक कंसल्टेंट डॉ देबाशीष साहू ने एक मीडिया चैनल को बताया कि जुड़े हुए जुड़वा दुर्लभ पैदाइसी कंडीशन होती है. जो छाती और पेट से जुड़े होते हैं. इस स्थिति को फ्यूजन के चलते एम्ब्रियो जेनेसिस कहा जाता है. डॉ साहू के मुताबिक अल्ट्रासाउंड होने के बाद इस मेडिकल विसंगित के बारे में विस्तार से जाना जा सकेगा.


डॉ की माने तो इस तरह के असामान्य जन्म की घटनाएं अब बहुत घट गई है. क्योंकि अब लोग इसको लेकर जागरूक हो गए हैं. लेकिन कुछ ग्रामीण क्षेत्र हैं जहां समय से दवाएं लेने का ध्यान नहीं रखा जाता. वो फोलिक एसिड दवाएं लेना बंद कर देती हैं और बाद की स्टेज में अल्ट्रासाउंड भी नहीं कराती है, जिससे विसंगति का पता लगता है.

RELATED ARTICLE

LEAVE A REPLY

POST COMMENT